Home » Ayurved » अनार – Benefit for health by Anar or Pomegranate
dharmik
dharmik

अनार – Benefit for health by Anar or Pomegranate




अनार – Benefit for health by Anar or Pomegranate

अनार खट्टा (tangy) भी होता है और मीठा भी| खट्टे अनार के छिलके का अर्क चूसने से खांसी (cough) चली जाती है जबकि मीठे अनार को खाने से खून बढ़ता है| इसका छिलका दस्त, ऐंठन, संग्रहणी, कांच निकलना, बवासीर आदि रोगों को दूर करता है| अनार का अर्क शक्कर या सेंधा नमक (Salt) के साथ पीने से खांसी व श्वास रोग ठीक हो जाते हैं| अनार का छिलका मुंह के छाले दूर करता है| अनार की तासीर ठंडी होती है| अनारों में बेदाना अनार उत्तम माना जाता है| अनार का उपयोग बहुत-से रोगों (diseases) में किया जाता है|

सौन्दर्यवर्द्धक
अनार के छिलकों को सुखाकर महीन पाउडर (powder- चूर्ण) बना लें| इस चूर्ण को थोड़े-से गुलाबजल (rose water) में मिलाकर मुंह पर उबटन की तरह मलें| सूख जाने पर बत्तियां छुड़ाकर मुंह धो डालें| चेहरे की झाइयां दूर होकर सुन्दरता बढ़ जाएगी|

पेट दर्द
अनार के आधे कप रस में काली मिर्च (black pepper) और नमक डालकर सेवन करने से पेट का दर्द (stomach pain) रुक जाता है|

दस्त तथा पेचिश
10-15 ग्राम अनार के सूखे छिलके पीसकर उसमें दो लौंग का चूर्ण मिला दें| फिर उन्हें एक पानी में उबालें| जब पानी आधा कप रह जाए तो उसे तीन खुराक के रूप में दिनभर में पिएं| यह दस्त (loose motion) और पेचिश की एक अच्छी दवा मणि जाती है|

खांसी
10 ग्राम अनार के छिलके में 2 ग्राम नमक मिलाकर चटनी पीस लें| चौथाई चम्मच चटनी खाकर जरा-सा शहद (honey) चाट लें| खांसी ठीक हो जाएगी|

नकसीर
दोनों नथुनों में अनार का रस डालने से नाक द्वारा खून (blood) आना बंद हो जाता है|

खूनी बवासीर
8 ग्राम अनार के छिलके का चूर्ण पानी के साथ सेवन करने से खूनी बवासीर (piles) चली जाती है|

हिस्टीरिया
15 ग्राम अनार के पत्ते और 10 ग्राम गुलाब के फूल को आधा किलो पानी में उबालें (boil)| जब पानी चौथाई रह जाए तो उसमें चार चम्मच देशी घी मिलाकर दिन में दो बार पिएं| इससे युवतियों को आने वाले हिस्टीरिया (hysteria) के दौरे रुक जाते हैं|

अरुचि
60-70 ग्राम अनारदाना, 20 दाने कालीमिर्च, भुना हुआ जीरा आधा चम्मच, एक चुटकी भुनी हींग और दो चुटकी सेंधा नमक – सबको पीसकर चूर्ण बना लें| इसमें से आधा चम्मच चूर्ण खाने से अरुचि, घबराहट, मिचली आदि रोग नष्ट हो जाते हैं|

दस्त
दस्त होने पर आधा कप अनार का रस पी जाएं| तुरन्त लाभ होगा|

गर्भस्राव
100 ग्राम अनार के पत्ते पीस लें| फिर इसे पानी में घोलकर पी जाएं| गर्भस्राव रुक जाएगा|

मासिक धर्म की अधिकता
3 ग्राम अनार के सूखे छिलकों के चूर्ण की फंकी मारकर ऊपर से गुनगुना पानी पी लें| लगभग एक सप्ताह तक यह नुस्खा खाने से मासिक धर्म नियमित हो जाएगा|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*