Home » Gyan » अब तक कोई नहीं पहुंच पाया है यहां छुपे खजानों तक…जानिए क्यों? – ab tak koi nahi pahunch paya hai yaha chupe khajane tak jaaniye kyon ?
dharmik
dharmik

अब तक कोई नहीं पहुंच पाया है यहां छुपे खजानों तक…जानिए क्यों? – ab tak koi nahi pahunch paya hai yaha chupe khajane tak jaaniye kyon ?




अब तक कोई नहीं पहुंच पाया है यहां छुपे खजानों तक…जानिए क्यों?- ab tak koi nahi pahunch paya hai yaha chupe khajane tak jaaniye kyon ?

दुनिया में किसी भी राजा-महाराजा की असली ताकत (real power) उसके खजाने से आँकी जाता रही है. यदि खजाना भरा-पूरा हो तो बादशाह (king) की बादशाही दूर-दूर तक गूँजती है. किसी भी बादशाह को अपनी सल्‍तनत के विस्तार के लिए खजानेों की जरुरत होती थी और उसे भरा-पूरा रखने के लिए समय-समय पर सल्‍तनतें लूटी जाती रहती थी. ऐसे कई खजानें इतिहास के पन्नों (in the pages of history) में दर्ज हैं जो वर्तमान में या तो खत्म, लुप्त या समुंदर के अथाह गहराई में खो चुके हैं या फिर यह खजाना एक रहस्य बनकर रह गया है. जानते हैं विश्व के कुछ अजीबो-गरीब खजानेों के बारे में…

द एंबर रूम (the amber room) : इसे दुनिया का आठवां अजूबा भी कहा जाता है. रशियन और जर्मन फाइन आर्ट (german fine art) की पेंटिंग से सजा इस कमरे पर छ: टन सोने की परत चढ़ी थी. दुनिया में यह खजाना सबसे ज्‍यादा चर्चा में रहा है. कहा जाता हैं कि विश्‍व युद्ध (world war) के दौरान जर्मन नाज़ी इसे अपने देश ले जाना चाहते थे.  लेकिन ले जाने के क्रम में यह कहीं डूब गया. जो भी हो पर यह खजाना आज भी दुनिया के लिए रहस्‍य ही बना हुआ है.

आर्क ऑफ द कवोनेंट (ark of the covenant) : इसे र्इसाई धर्म (christian religion) का सबसे बड़ा खजाना माना जाता था. मान्यता है कि यह खजाने भरी वह पेटी थी, जो प्राचीन इजरायल (israel) के लिए मूसा की मदद से माउंट सिनाई पर खुद भगवान द्वारा बनाई गई पृथ्वी पर सबसे पवित्र वस्तु थी. आर्क शीर्ष पर एक लकड़ी के हैंडल की जोड़ी (pair of wooden handle) और दो गोल्डन करूबों के साथ शुद्ध सोने से बनायी गयी थी. 607 ईसा पूर्व में कसदियों द्वारा इसे लूट लिया गया था. यह खजाना आज भी दुनिया के नजरों से दूर है.

ब्‍लैकबर्ड्स का खजाना: एडवर्ड टीच (edward teach) एक समुद्री लुटेरा जिसे दुनिया ब्‍लैकबर्ड्स (blackbirds) के नाम से जानती है. ब्‍लैकबर्ड ने वेस्‍ट इंडीज (west indies) और उत्‍तरी अमेरिका के समुद्री इलाकों में लूट-पाट मचा रखी थी. ब्‍लैकबर्ड ने 1718 में एक फ्रांस व्‍यापारी (french businessman) के जहाज को लूट लिया गया था. माना जाता है कि यह लूट तकरीबन 62 अरब रुपये का था. खजाना लंबे समय तक दुनिया के सामने एक रहस्‍य बना रहा. 1996 में उसका यह खजाना उत्‍तरी कॉरोलीना (north Carolina) के नजदीक ब्‍यूफोर्ट में दुनिया के सामने आया.

लिमिया का खजाना: पेरु के वायसराय ने 1820 में युद्ध के बीच अपने खजाने को मैक्सिको (mexico) शिफ्ट किया. हिंद महासागर में 11 जहाजों के जरिये इस खजाने को मैक्सिको ले जाया जा रहा था. उसी समय समुद्री लुटेरों ने खजाने को लूट लिया. तब से लेकर आज तक यह खजाना रहस्‍य बना हुआ है. तकरीबन 18 अरब से भी ज्‍यादा के इस खजाने की बहुत बार खोजा जा चुका है, पर आज तक यह किसी के हाथ नहीं आया.

किंग मोंटेजुमा का खजाना:  जुलाई 1520 को एज्‍टेक साम्राज्‍य के पतन के दौरान राजा मोंटेजुमा (king Montezuma) घायल हो गए. घायल राजा ने अपने खजाने सहित सभी को वहां से हटने का आदेश दिया. रास्ते में इस खजाना को लूट लिया गया. फिर यह खजाना कहां गया? क्‍या हुआ? ये किसी को पता नहीं लग पाया. मैक्सिको में कहीं छिपा यह खजाना आज भी दुनिया के लिए पहेली बना हुआ है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*