Home » Kahaniya/ Stories » कुत्ते की वफादारी | Kutte ki vafadari
dharmik
dharmik

कुत्ते की वफादारी | Kutte ki vafadari




कुत्ते की वफादारी | Kutte ki vafadari

अनातो एक सीधा-सादा, भोला-भाला किसान (farmer) था | वह अपनी पैतृक जमीन (home land) पर खेती करने में सारा दिन बिता देता था, शाम को घर आकर भोजन खाकर से जाता था

अनातो के पास एक कुत्ता (dog) था, जिसका नाम था सिंगर | अनातो सिंगर को बहुत प्यार करता था | उसे अपने साथ खेत पर ले जाता था और शाम को अपने साथ घर लेकर आता था | सिंगर ही उसका सच्चा साथी था |

अनातो का एक पड़ोसी (neighbor) था शैन्टो | वह सिंगर से बहुत जलता (jealous) था | सिंगर अक्सर शैन्टो के घर के अहाते में अथवा दरवाजे (door) के पास गंदा कर आता था | शैन्टो यदि सिंगर को अपने अहाते में आते देख लेता, टो डंडा लेकर सिंगर के पीछे दौड़ता था | सिंगर शैन्टो को खूब इधर-उधर दौड़ता रहता था |

अनातो ने सिंगर को तब से पाला था जब वह मुश्किल से पन्द्रह दिन का था | अत: वह सिंगर की हर जरूरत को पहचानता था | सिंगर भी अनातो की बात अच्छी तरह समझता था | अनातो कभी-कभी सिंगर के साथ खेलता (playing) भी था | उसके साथ दौड़ लगाने में सिंगर को बहुत आनंद आता था |

एक दिन अनातो शाम को भोजन कर रहा था | अचानक सिंगर को क्या सूझी कि वह जोर-जोर से भौंकने (barking) लगा | अनातो ने सिंगर को चुप कराने का प्रयास किया, परन्तु सिंगर और जोर से भौंकने लगा | उसने अनातो का कुर्ता पकड़ लिया और उसे घर के पिछवाड़े की ओर खींचने लगा | अनातो को लगा कि शायद पिछवाड़े के आंगन में सिंगर कुछ दिखाना चाहता है |

अनातो वहां पहुंच गया तब भी सिंगर भौंकता रहा | सिंगर पिछवाड़े के अमरूद के पेड़ (tree) के पास जमीन खोदने लगा | अनातो को कुछ समझ में नहीं आ रहा था | वह भीतर से फावड़ा ले आया | लेकिन मिट्टी खोदने पर वहां कुछ दिखाई नहीं दिया | वह भीतर जाने लगा तभी सिंगर पुन: अनातो को खींचने लगा |

अनातो ने देखा कि सिंगर उसी जगह और मिट्टी खोदने के प्रयास में लगा है | अनातो ने पुन: वहां खोदना शुरू किया तो अचानक उसका फावड़ा एक पीतल के मटके से जा टकराया | अनातो ने देखा कि मटके में सोने की अशर्फियां (gold coin) भरीं थीं | अनातो वहां से अशर्फियां निकालता गया और ढेरों आशर्फियां निकलती गईं |

अनातो की खुशी से बांछें खिल गईं | वह सोचने लगा कि अब वह बड़ा-सा मकान (house) खरीदेगा और विवाह (marriage) करके अपना घर बसाएगा | वह सिंगर को प्यार करते हुए उसको सहलाने लगा | सिंगर कूद-कूद कर अपनी खुशी प्रकट कर रहा था |

इसके पश्चात् अनातो उन अशर्फियों को बक्से में बंद कर सुरक्षित स्थान (safe place) पर रखकर सो गया | परंतु सुबह जब अनातो उठा तो देखा कि दरवाजे पर शैन्टो खड़ा था | न जाने उसे कैसे सिंगर की होशियारी और खजाने का पता लग गया था ?

शैन्टो बोला – “मुबारक हो यार, तुम्हारे सिंगर ने तो कमाल कर दिया | कृपया अपने सिंगर को दो दिन के लिए मुझे दे दो | मैं भी खजाना ढूंढ़ना चाहता हूं |”

अनातो शैन्टो की बात सुनकर हत्प्रभ रह गया | परंतु वह शैन्टो को सिंगर को नहीं देना चाहता था | वह जानता था कि शैन्टो सिंगर से प्यार नहीं घृणा करता है | उसने बहाना बनाते हुए कहा – ” भैया तुम मेरे अच्छे पड़ोसी के साथ-साथ मित्र भी हो, इसलिए मैं तुम्हें किसी चीज को मना नहीं करना चाहता | परंतु तुम जानते हो कि सिंगर तुम्हें और तुम सिंगर को पसन्द नहीं करते | यदि तुम्हारी किस्मत में खजाना होगा तो अवश्य मिल जाएगा |”

परंतु शैन्टो को खजाना पाने की लालसा थी, अत: वह बोला – “कोई बात नहीं, मैं जानता हूं कि सिंगर तुम्हारा प्यारा कुत्ता है | मैं दो दिन उसे संभाल ही लूंगा |”

अब अनातो शैन्टो को मना न कर सका और शैन्टो सिंगर को डोरी से बांध कर अपने घर ले गया | अब शैन्टो बार-बार सिंगर को जमीन सुंघाने की कोशिश करने लगा | लेकिन कुत्ता कभी भी किसी के कहने पर कोई जगह या जमीन (land) नहीं सूंघता | इस कारण सिंगर बार-बार वहां से हटने का प्रयास करने लगा | शैन्टो सिंगर को जबरदस्ती अपने आंगन के पेड़ के पास ले गया और उसका मुंह जमीन पर रगड़ दिया ताकि वहां सूंघ कर जमीन खोदने लगे | परंतु उसके साथ जबरदस्ती होने के कारण सिंगर को क्रोध (angry) आ गया और वह भौंकने लगा |

शैन्टो ने क्रोध में आकर उसे पेड़ से बांध दिया और शाम तक भोजन नहीं दिया | शाम को जब शैन्टो आया तो सिंगर बहुत उदास बैठा था | शैन्टो ने पुन: सिंगर को घर के कोनों में व घर के आस-पास सुंघाने का प्रयास किया परंतु सिंगर क्रोध में गुर्राने लगा और अपने घर जाने का प्रयास करने लगा |

शैन्टो ने क्रोध में आकर सिंगर को जोर से डंडा (stick) दे मारा | सिंगर चिल्लाते (shout) हुए गिर पड़ा और मर (dead) गया | अब शैन्टो डर गया कि अनातो को क्या जवाब देगा ? उसने चुपचाप घर के पीछे पहाड़ी (mountain) के पास एक पेड़ के नीचे सिंगर को दफना दिया |

दो दिन बाद अनातो सिंगर को लेने आया तो शैन्टो बोला – “अरे यार, तुम्हारा कुत्ता कमाल का होशियार है | मेरा भाई गांव (village) से आया था, उसे सिंगर बहुत पसंद आया और अपने साथ ले गया |”

“यह कैसे हो सकता है ? तुमने मेरे सिंगर को मुझसे पूछे बिना किसी और को कैसे दे दिया ? मुझे अपने भाई का पता दे दो, मैं खुद जाकर सिंगर को ले आऊंगा |”

अब शैन्टो को कोई बहाना नहीं सूझ रहा था | वह बात बनाते हुए बोला – “मेरा भाई उसे हमेशा के लिए थोड़े ही ले गया है | एक हफ्ते (week) में वापस ले आएगा |”

अनातो मन मार कर वहां से चला गया और एक-एक दिन गिन कर काटने लगा | छह दिन बीतते ही सातवें दिन वह शैन्टो के पास पहुंचा और सिंगर को मांगने लगा | परंतु शैन्टो ने बहाना बना दिया कि शायद वह एक-दो दिन में आएगा | इस तरह टालते-टालते शैन्टो ने पन्द्रह दिन निकाल दिए |

अनातो सिंगर के लिए पागल (mad) हुआ जा रहा था, क्योंकि इस बीच उसका रिश्ता (relation) तय हो गया था और तीन-चार दिन में ही उसकी शादी होने वाली थी | वह शैन्टो के पास क्रोधित होते हुए गया और बोला – “देखो, मैं सिंगर के बिना विवाह नहीं कर सकता | परसों मेरा विवाह है, तुम जल्दी से सिंगर को लेकर आओ |”

शैन्टो बोला – “मैं सिंगर को कहां से लाऊं, वह तो मर गया |”

अनातो के क्रोध का पारावार न रहा, वह बोला – “क्या बकते हो ? कहां है मेरा सिंगर, जल्दी बताओ ?”

शैन्टो ने सारी घटना ज्यों की त्यों बता दी | अब अनातो बहुत दुखी होकर चला गया और अपने रिश्तेदारों (relatives) से कहने लगा – “मैं विवाह नहीं करना चाहता |”

सबने अनातो को समझाया – “देखो भाई नियति को कौन टाल सकता है ? अब तो उसकी यादें तुम्हारे साथ हैं | तुम विवाह करो और सुख से जीवन बिताओ |”

अनातो ने विवाह में शैन्टो को नहीं बुलाया और विवाह सम्पन्न हो गया | अनातो विवाह के पश्चात भी उदास था | उसकी पत्नी मंगला अपने पति की भावनाओं को समझती थी, वह बोली – “मैं जानती हूं कि सिंगर तुम्हारा प्यारा कुत्ता था, चलो हम वहां जाकर पुष्प चढ़ा कर आते हैं, जहां शैन्टो ने सिंगर को दफनाया था |”

अनातो को मंगला की बात जंच गई | वे वहां पहुंचे तो देखा कि वहां एक छोटा-सा विचित्र पौधा (plant) निकल आया है, जहा शैन्टो ने सिंगर को दफनाया था |

उस स्थान पर फूल चढ़ाने के पश्चात मंगला बोली – “मैं सोचती हूं कि यह पौधा सिंगर का प्रतिरूप है | यह पौधा उखाड़ कर हमें अपने आंगन (garden) में लगा लेना चाहिए ताकि यह हमें सिंगर की याद दिलाता रहे |”

अनातो ने सोचा कि यह ठीक रहेगा | उसने उस पौधे को बहुत सावधानीपूर्वक निकालकर अपने आंगन में लगा दिया | पौधा दो वर्ष के भीतर ही पूरा पेड़ बन गया | उस पर विचित्र प्रकार के फूल व पत्तियां निकलते थे | इस बीच अनातो एक पुत्र का पिता बन गया |

एक दिन अनातो का पुत्र बीमार (fever) था | वह वैद्य से दवा दिला कर लाया, परंतु कोई लाभ नहीं हुआ | एक दिन पुत्र ने खेलते-खेलते उस वृक्ष का फूल खा लिया | उसी दिन पुत्र एकदम स्वस्थ (healthy) हो गया | अनातो को पहले तो यकीन नहीं हुआ, परंतु बड़ी हैरानी हुई कि सिंगर मर कर भी उनकी सहायता (help) कर रहा था |

धीरे-धीरे लोगों में यह खबर फैल गई कि अनातो के घर का पेड़ करामाती है | उसकी पत्तियां व फूल खाने से तरह-तरह की बीमारियां ठीक हो जाती है | शैन्टो ने सोचा कि इसका लाभ उठाया जाए और एक दिन चुपचाप उस पेड़ की बड़ी टहनी (branch) काट लाया | वह गली-मोहल्ले में जाकर उन्हें बेचने लगा |

नगर के राजा ने यह खबर सुनी तो अनातो को बुलवा भेजा | राजा ने कहा कि यह पेड़ हमें दे दो | हम तुम्हें मुंहमांगी कीमत देंगे | अनातो इसके लिए राजी नहीं हुआ | परंतु वह उस पेड़ की कुछ पत्तियां तोड़कर लाया था, वह राजा को दे दीं | राजा ने वह पत्तियां अपने बीमार पुत्र को खिलाईं तो उसके पुत्र (son) की बीमारी दूर हो गई |

राजा ने इसके बदले अनातो को धन देना चाहा परंतु उसने यह कह कर मना कर दिया कि वह अपने प्यारे पेड़ का मोल नहीं लगाना चाहता | वह अपने प्यारे सिंगर-पेड़ से लोगों की सेवा करना चाहता है | राजा ने अनातो की सच्चाई व ईमानदारी देखकर उसे अपने दरबार में ऊंचे ओहदे (big post) पर नियुक्त कर दिया |

शैन्टो अनातो से ईर्ष्यावश जला जा रहा था | उसकी बेची हुई पत्तियों से लोगों की बीमारी बढ़ने लगी | लोग शिकायत लेकर राजा के पास पहुंचे | राजा ने बेईमान शैन्टो को कारागार (jail) में डाल दिया |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*