Home » Ayurved » जानिये कुछ ऐसे घरेलू उपाय जो आपको लीवर की बीमारी से बचायें | jaaniye kuch aise upaaye jo aapko liver ki bimari se bachae
dharmik
dharmik

जानिये कुछ ऐसे घरेलू उपाय जो आपको लीवर की बीमारी से बचायें | jaaniye kuch aise upaaye jo aapko liver ki bimari se bachae




जानिये कुछ ऐसे घरेलू उपाय जो आपको लीवर की बीमारी से बचायें | jaaniye kuch aise upaaye jo aapko liver ki bimari se bachae

लीवर- शुगर, फैट (fat) और आयरन (iron) के चयापचय में एक महत्वपूर्ण भूमिका (important role) निभाता है। साथ ही यह पित्तरस उत्पन्न करके शरीर में चर्बी को घटाता है। लीवर प्रोटीन (protein) तथा रक्त के थक्कों के उत्पादन में भी मदद करता है। इ‍सलिए लीवर का स्‍वस्‍थ (healthy) होना बहुत जरूरी होता है।

लीवर के लिए घरेलू उपाय
मानव पाचन तंत्र (digestion system) में लीवर एक म‍हत्‍वपूर्ण हिस्‍सा है। विभिन्‍न अंगों (various body parts) के कार्यों जिसमें भोजन चयापचय, ऊर्जा भंडारण, विषाक्त पदार्थों को बाहर निकलना, डिटॉक्सीफिकेशन (detoxification), प्रतिरक्षा प्रणाली का समर्थन और रसायनों का उत्‍पादन शामिल हैं। लेकिन कई चीजें जैसे वायरस, दवाएं, आनुवांशिक रोग और शराब लिवर को नुकसान पहुंचाने लगती है। लेकिन यहां दिये उपायों को अपनाकर आप अपने लीवर को मजबूत और बीमारियों (diseases/infection) से दूर रख सकते हैं।

हल्‍दी
हल्‍दी (turmeric) लीवर के स्‍वास्‍थ्‍य में सुधार करने के लिए अत्‍यंत उपयोगी होती है। इसमें एंटीसेप्टिक (antiseptic) गुण मौजूद होते है और एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) के रूप में कार्य करती है। हल्दी की रोगनिरोधन क्षमता हैपेटाइटिस बी व सी का कारण बनने वाले वायरस को बढ़ने से रोकती है। इसलिए हल्‍दी को अपने खाने में शामिल करें या रात को सोने से पहले एक गिलास दूध में थोड़ी सी हल्दी मिलाकर पिएं।

पपीता
पपीता लीवर की बीमारियों के लिए सबसे सुरक्षित प्राकृतिक उपचार (natural treatment) में से एक है, विशेष रूप से लीवर सिरोसिस के लिए। हर रोज दो चम्मच पपीता के रस में आधा चम्मच नींबू (lemon juice) का रस मिलाकर पिएं। इस बीमारी से पूरी तरह निजात पाने के लिए इस मिश्रण का सेवन तीन से चार सप्ताहों के लिए करें।

सेब का सिरका
सेब का सिरका, लीवर में मौजूद विषैले पदार्थों (poisonous liquid) को बाहर निकालने में मदद करता है। भोजन से पहले सेब के सिरके को पीने से शरीर की चर्बी घटती है। सेब के सिरके को आप कई तरीके से इस्‍तेमाल कर सकते हैं- एक गिलास पानी में एक चम्मच सेब का सिरका मिलाएं, या इस मिश्रण में एक चम्मच शहद (honey) मिलाएं। इस म‍िश्रण को दिन में दो से तीन बार लें।

सिंहपर्णी जड़ की चाय
सिंहपर्णी जड़ की चाय (tea) लीवर के स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने वाले उपचारों (treatment) में से एक है। अधिक लाभ पाने के लिए इस चाय को दिन में दो बार पिएं। आप चाहें तो जड़ को पानी में उबाल (boil) कर, पानी को छान कर पी सकते हैं। सिंहपर्णी की जड़ का पाउडर (powder) बड़ी आसानी से मिल जाएगा।

आंवला
आंवला (amla) विटामिन सी के सबसे संपन्न स्रोतों में से एक है और इसका सेवन लीवर की कार्यशीलता (working capacity) को बनाये रखने में मदद करता है। अध्ययनों (research) ने साबित किया है कि आंवला में लीवर को सुरक्षित रखने वाले सभी तत्व मौजूद हैं। लीवर के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए आपको दिन में 4-5 कच्चे आंवले खाने चाहिए।

मुलेठी
लीवर की बीमारियों के इलाज के लिए मुलेठी का इस्‍तेमाल कई आयुर्वेदिक औषधियों (ayurvedic herbs) में किया जाता है। इसके इस्‍तेमाल के लिए मुलेठी की जड़ का पाउडर बनाकर इसे उबलते पानी में डालें। फिर ठंड़ा होने पर छान लें। इस चाय रुपी पानी को दिन में एक या दो बार पिएं।

अलसी के बीज
फीटकोंस्टीटूएंट्स (feet constituency) की उपस्थिति के कारण, अलसी के बीज हार्मोंन (hormone) को ब्‍लड में घूमने से रोकता है और लीवर के तनाव (stress) को कम करता है। टोस्‍ट पर, सलाद में या अनाज के साथ अलसी के बीज को पीसकर इस्‍तेमाल करने से लिवर के रोगों को दूर रखने में मदद करता है।

पालक और गाजर का रस
पालक (spinach) और गाजर (carrot) का रस का मिश्रण लीवर सिरोसिस के लिए काफी लाभदायक घरेलू उपाय (home remedy) है। पालक का रस और गाजर के रस को बराबर भाग में मिलाकर पिएं। लीवर की मरम्मत (repairing) के लिए इस प्राकृतिक रस को रोजाना कम से कम एक बार जरूर पिएं।

एवोकैडो और अखरोट
एवोकैडो (avocado) और अखरोट को अपने आहार में शामिल कर आप लीवर की बीमारियों के आक्रमण से बच सकते हैं। एवोकैडो और अखरोट में मौजूद ग्लुटथायन, लिवर में जमा विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर इसकी सफाई करता है।

सेब तथा पत्तेदार सब्जियां
सेब (apple) और पत्तेदार सब्जियों (leafy vegetables) में मौजूद पेक्टिन पाचन तंत्र में उपस्थित विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल कर लीवर की रक्षा करता है। इसके अलावा, हरी सब्जियां पित्त के प्रवाह को बढ़ाती हैं।

धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*