Home » Gyan » जानिये मैं और मेरा laptop अक्सर क्या बातें करते हैं. Jaaniye main aur mera laptop aksar kya baatein karte ha
dharmik
dharmik

जानिये मैं और मेरा laptop अक्सर क्या बातें करते हैं. Jaaniye main aur mera laptop aksar kya baatein karte ha




जानिये मैं और मेरा laptop अक्सर क्या बातें करते हैं. Jaaniye main aur mera laptop aksar kya baatein karte hai

जैसे ही घर से सत्संग को निकला मै हो कर tip top,
पीछे से चिड़ाते हुए कुछ यूं बोला मेरा laptop.

सत्संग में जाने वाले ओ दिखावे के पुतले ,
ज्ञान (knowledge) की कुछ chatting shatting हमसे भी करले,

उसके चिड़ाने पर आया मुझे बहुत गुस्सा (anger),
और मै laptop पे जोर से बरसा,

ओ बिजली (electricity) के यंत्र switch off कर दूंगा अगर ज्यादा की बात,
वो बोला अरे जा पहले आईने में जाकर देख अपनी ओकात,

देख तेरे दिल (heart) की hard disk पर कैसे software’s का जाल है,
निंदा नफरत और इर्ष्या सभी spywares तो install है,

इनकी वजह से प्यार का program ठीक से run नहीं हो पाता है,
और मनमत का खतरनाक dangerous virus फ्री में download हो जाता है,

फिर ये dangerous virus गुरमत की files को read only कर देता है,
न का processor चाहे strong हो फिर भी ये system hang कर देता है,

वैसे तो निरंकार का server कभी भी down नहीं होता है,
हमेशा तुम्हारा connection ही timeout होता है,

मैंने laptop की बातो में हां में हां तो मिलाई ,
पर खुद को शर्म (shame) से बचाने की एक युक्ति (idea) याद आई ,

मैंने कहा सेवा सिमरन और सत्संग का antivirus भी तो install किया हुआ है,
और मन के system की maintainence यानि AMC का contract सतगुरु को जो दिया है,

laptop ने मुझे प्यार से बुलाया और व्यंग्य (taunt) कसते हुए यूँ समझाया

बेटा जब सतगुरु के वचनों की emails तुम्हारे मन के inbox में आती है
और बिना पढ़े ही वो सब दुसरो को forward हो जाती है

तो केवल (only) वचन क्या तुम्हारा ख़ाक भला करेंगे
बच्चू उनमे अम्ल क्या तुम्हारे चच्चा करेंगे ,

उन्हें दिमाग में copy करके कर्म में paste करना जरुरी है
आज तक latest hardware में memory की कहा मजबूरी है,

नम्रता (kindness) और विशालता का software install कर के देख
फिर खूब aish होगी ,
यदि ज्ञान का password याद रहा तो सहनशीलता की application कभी न crash होगी ,

और अहंकार (attitude) के virus को तुरंत ctrl alt delete करो ,
निरंकार प्रभु की website पे जाने के लिए साकार गुरु के icon पर double click करो,
फिर आनंद के internet explorer से जितनी चाहो उतनी खुशिया (happiness) pick करो ,

तुम्हारी झोली का disk space यक़ीनन कम पड़ जायेगा ,
पर इसकी रहमतो का download ख़तम न हो पायेगा,
मैंने laptop की बात को स्वीकार किया ,
मैं और मेरा laptop अक्सर ये बातें करते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*