Home » Gyan » धन पाने की इच्छा में लोग कैसे करते हैं माँ लक्ष्मी को प्रसन्न | Dhan paane ki iccha mein log kaise karte hai Maa Lakshmi ji ko prasann
lakshmi mata
lakshmi mata

धन पाने की इच्छा में लोग कैसे करते हैं माँ लक्ष्मी को प्रसन्न | Dhan paane ki iccha mein log kaise karte hai Maa Lakshmi ji ko prasann




धन पाने की इच्छा में लोग कैसे करते हैं माँ लक्ष्मी को प्रसन्न | Dhan paane ki iccha mein log kaise karte hai Maa Lakshmi ji ko prasann

संसार में लोगों के दिलो-दिमाग पर भौतिकता ज्यादा हावी है. अपनी भौतिक इच्छाओं को पूरा करने के लिए लोग तरह-तरह के प्रयास करते हैं. मंदिरों (mandir/temple) में देवी-देवताओं के दर्शन के अलावा तरह-तरह के भंडारे का आयोजन किया जाता है. लोग विभिन्न प्रकार की मन्नतें (various types of wishes) मांगते हैं और कार्य सफल हो जाने पर उन्हें पूरा भी करते हैं. इसके अलावा भी लोग तरह-तरह के उपायों को इस्तेमाल कर धन की देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करने की कोशिश करते हैं. पढ़िए उन उपायों को….

लक्ष्मी चालीसा

लक्ष्मी चालीसा (Shri laxmi chalisa) कुछ छंदों का संकलन है जिसके द्वारा लोग माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करने के प्रयास में रहते हैं. इस मंत्र के जाप से लोग माँ लक्ष्मी से यह जानना चाहते हैं कि ‘उनके भाग्य का उदय कब होगा. कब और कैसे उनके दुर्दिन सुधरेंगे?’

भक्त माँगे मोर

लोग अपनी प्रार्थना (prayer) के दौरान माँ लक्ष्मी से हर कुछ माँग लेना चाहते हैं. चाहे वह बुद्धिमानी हो या दैवीय शक्ति! अपनी इच्छा की पूर्ति के लिए वो माँ को प्रसन्न करते हुए कहते हैं कि ‘हे माँ! तीनों लोक में तुम जैसा दयालु और कोई नहीं है. केवल तुम ही हो जो हमारी खाली झोली को भर सकती हो.’

माता की श्रेष्ठता

माँ को प्रसन्न करते हुए लोग कहते हैं कि, ’माते तुम सभी भौतिकता से ऊपर हो.  भक्तों के प्रति तुम्हारे प्यार को केवल शब्दों में नहीं बाँधा जा सकता. तुम इस जगत में वैभव की देवी हो. ’

मेरे पापों का नाश करो

हालांकि लोग सांसारिक वास्तविकताओं की तरफ भी माँ लक्ष्मी का ध्यान खींचते हैं. वो कहते हैं कि,‘माते मुझे तुम्हारी स्तुति की विधि नहीं आती. फिर भी जैसे-तैसे मैं तुम्हारी पूजा करता हूँ. ऐसा करते हुए भी मैं मानव प्रकृति के वशीभूत हूँ. इसलिए मेरे पापों का नाश करो और मुझे अपनी शरण में ले लो.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*