Home » Ayurved » बदल दीजिये अपनी बुरी आदतें नहीं तो पछ्ताना पड़ेगा | Badal dijiye apni buri aadtein nahi to pachtana padega
dharmik
dharmik

बदल दीजिये अपनी बुरी आदतें नहीं तो पछ्ताना पड़ेगा | Badal dijiye apni buri aadtein nahi to pachtana padega




बदल दीजिये अपनी बुरी आदतें नहीं तो पछ्ताना पड़ेगा  | Badal dijiye apni buri aadtein nahi to pachtana padega.

आमतौर (mostly) पर नाश्ता छोड़ देने या जरूरत से ज्यादा खाने को लोग बहुत गंभीरता (seriously) से नहीं लेते। लेकिन आदत आपको आगे चलकर गंभीर नुकसान (problem) पहुंचा सकती है। एक नए शोध (research) के मुताबिक मामूली लगने वाली ये आदत मस्तिष्क (brain) या लिवर (lever) पर घातक असर डालती हैं। यानी हमारे दिमाग को खतरा सिर्फ मोबाइल फोन (mobile phone) या वॉकमैन जैसे जरूरी बन चुके इलेक्ट्रानिक उपकरणों (electronic products) से निकलने वाली विकिरण से ही नहीं है। हमारी आदतें भी इसमें अहम भूमिका (important role) निभाती हैं।

नाश्ता नहीं लेना

आफिस या स्कूल (school) पहुंचने, जल्दी-जल्दी काम निपटाने के चक्कर में नाश्ता (breakfast) नहीं करने की आदत से दिमाग को गंभीर नुकसान पहुंचता है। जो लोग नाश्ता नहीं करते उनके खून में शर्करा का स्तर (blood sugar level – ब्लड शुगर लेवल) सामान्य लोगों के मुकाबले कम होता है। ब्लड शुगर के स्तर में कमी से दिमाग को पर्याप्त पोषण नहीं मिल पाता जिसकी वजह से दिमाग कमजोर (weak brain) होने लगता है।

जरूरत से ज्यादा खाना

जरूरत से ज्यादा खाने की आदत न सिर्फ मोटापे (obesity) के लिए जिम्मेदार होती है, काफी हद तक यह मस्तिष्क को भी कमजोर बनाती है। जरूरत से ज्यादा खाने से दिमाग की धमनिया सख्त हो जाती हैं। इसके चलते भी आदमी का दिमाग कमजोर हो जाता है।

धूम्रपान करना

धूम्रपान (smoking) से दिमाग की नसें सिकुड़ने लगती है। यह आगे चलकर अल्जाइमर्स (Alzheimer)  का खतरा बढ़ा देता है।

ज्यादा मीठा खाना

शरीर में शर्करा की ज्यादा मात्रा होने से प्रोटीन (protein) के अवशोषण की प्रक्रिया बाधित होती है। जो दिमाग की क्षमता (strength) को कम कर देती है।

पर्याप्त नींद न लेना

नींद लेने से दिमाग को आराम मिलता है। लेकिन पर्याप्त नींद नहीं ली जाए तो मस्तिष्क की कोशिकाओं (veins) के नष्ट होने की प्रक्रिया तेज हो जाती है। इसी तरह मुंह ढक कर सोने से सांस लेते समय शरीर में आक्सीजन (oxygen) के बजाय कार्बन डाइ आक्साइड (carbon dioxide) की मात्रा ज्यादा जाती है। इसका भी दिमाग पर बुरा असर पड़ता है।

दिमागी कमजोरी

बीमारी में काम करने की आदत भी दिमाग को कमजोर बनाती है। इसी तरह देर से सोना और देर से जगना, अधिक खाना व नाश्ता नहीं करने का लिवर पर बुरा असर पड़ता है।

इनके अलावा लिवर को नुकसान पहुंचाने वाली कुछ अन्य आदतें

ज्यादा दवा खाना।

संरक्षित खाद्य पदार्थ, कृत्रिम रंग और शुगर के इस्तेमाल से बने डिश भी लिवर को नुकसान पहुंचाता है।

तैलीय (oily food) व अधपका खाना भी लिवर को कमजोर बनाता है। इसलिए कच्ची सब्जियां को थोड़ा उबाल (boil) कर खाना ठीक होता है। तली चीजों को ताजा खाकर खत्म कर दें। बचाकर बाद में खाने के लिए मत रखे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*