Home » Gyan » मंदिर में घंटी बजाना होता है शुभ, मिलते हैं कई लाभ – Mandir mein ghanti bajana hota hai shubh milte hai kai labh
dharmik
dharmik

मंदिर में घंटी बजाना होता है शुभ, मिलते हैं कई लाभ – Mandir mein ghanti bajana hota hai shubh milte hai kai labh




मंदिर में घंटी बजाना होता है शुभ, मिलते हैं कई लाभ- Mandir mein ghanti bajana hota hai shubh milte hai kai labh

धातु की बनी घंटियां (bells) मंदिरों की पहचान है। पुराने समय से ही सभी मंदिरों में घंटियां अनिवार्य (compulsory) रूप से लगाई जाती रही हैं। मंदिर में घंटी बजाने के पीछे कई कारण बताए गए हैं। यहां जानिए घंटी बजाने से कौन-कौन से लाभ (what you gain) मिलते हैं…

घंटी के नाद के बिना पूर्ण नहीं होती आरती
देवी-देवताओं की आरती, घंटी के नाद के बिना पूर्ण नहीं हो सकती है। भगवान की आरती में कई प्रकार के वाद्य यंत्र (musical instruments) बजाए जाते हैं, इनमें घंटी का स्थान सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। घंटी की ध्वनि मन, मस्तिष्क और शरीर को ऊर्जा (energy) प्रकार प्रदान करती है। इस ऊर्जा से बुद्धि प्रखर होती है। मंदिरों में जब भी आरती होती है तो घंटी की आवाज से वहां उपस्थित लोग मंत्र-मुग्ध हो जाते हैं।

यदि कोई व्यक्ति नियमित रूप से आरती के समय किसी मंदिर में जाता है तो उसकी बुद्धि तेज होती है। घंटी से निकलने वाले दीर्घ स्वर का हमारे दिमाग (brain) पर गहरा असर होता है। घंटी से निकलने वाली ध्वनि से वातावरण (atmosphere) के साथ ही हमारे शरीर में भी विशेष कंपन होता है, इस कंपन (vibration) से हमें शक्ति प्राप्त होती है। इस शक्ति से दिमाग की एकाग्रता (concentration) बढ़ती है, चिंतन करने की क्षमता बढ़ती है, नए और धार्मिक विचार जन्म लेते हैं, हम शांत रहते हैं, धैर्य के साथ परेशानियों (problems) का हल खोज लेते हैं। इस प्रकार के लाभ तभी मिल सकते हैं, जब हम नियमित रूप से आरती के समय मंदिर जाएं।

घंटी की आवाज से वातावरण होता है पवित्र
मंदिरों में बजने वाली छोटी-बड़ी सभी घंटियों की आवाज वातावरण को शुद्ध और पवित्र बनाती है। वातावरण में कई सूक्ष्म कीटाणु (infections) हमेशा विद्यमान रहते हैं जो हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक (not good for health) होते हैं। मंदिरों में लगातार एक लय में घंटियां बजने से जो ध्वनि निकलती है, वह आवाज इन हानिकारक कीटाणुओं को नष्ट कर देती है। साथ ही, इस आवाज से वातावरण की नकारात्मक ऊर्जा (negative energy) बेअसर हो जाती है। इसी वजह मंदिरों के आसपास सकारात्मक वातावरण निर्मित होता है।

घंटी बजाने से पाप हो जाते हैं नष्ट
पुराणों के अनुसार मंदिर में घंटी बजाने से मानव के कई जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं। जब सृष्टि का प्रारंभ हुआ, उस समय जो नाद (sound-आवाज) था, वही नाद घंटी की ध्वनि से भी निकलता है।

मंदिर में घंटी बजाने से मिलते हैं शुभ फल
नियमित रूप से आरती करने और लगातार घंटी (bell) बजाने से मंदिर में स्थापित देवी-देवताओं की प्रतिमाएं चैतन्य हो जाती हैं। ऐसी प्रतिमाओं की पूजा अधिक प्रभावशाली और शीघ्र फल प्रदान करने वाली होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*