Home » Ayurved » रात को नहीं खानी चाहिए ये 10 चीजें | Raat ko nahi khaani chahiye yeh 10 cheejein
dharmik
dharmik

रात को नहीं खानी चाहिए ये 10 चीजें | Raat ko nahi khaani chahiye yeh 10 cheejein




रात को नहीं खानी चाहिए ये 10 चीजें | Raat ko nahi khaani chahiye yeh 10 cheejein

हर व्यक्ति की खाने से जुड़ी अपनी अलग आदतें होती हैं। इसलिए कुछ लोग शाम के समय जल्दी खाना खा लेते हैं, जबकि कुछ लोग देर से खाते हैं। शरीर पर इन आदतों का तो असर पड़ता ही है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपने रात को जो खाना खाया है, उसका सीधा असर आपकी नींद पर पड़ता है। जी हां, रात को सोने से पहले आपने जो खाना खाया है, यदि ठीक नहीं है तो आपको बहुत जल्दी गहरी नींद नहीं आएगी।

आयुर्वेद (ayurved) में माना गया है कि हमेशा सोने से दो घंटे या उससे पहले खाना शरीर के लिए ज्यादा उचित रहता है। खाने के तुरंत बाद सोने से मोटापा (fat) बढ़ता है। साथ ही, हमारा पाचन तंत्र (digestion system) भी इससे प्रभावित होता है। वैसे, अगर सोने से थोड़ी देर पहले कुछ खाया जाए तो वह चीज ऐसी होनी चाहिए जो आसानी से पच जाए। सोने से पहले हाई-कैलोरी (high calories) वाला खाना लेने से हार्टबर्न (heart burn) जैसी समस्या भी हो सकती है। इसके अलावा कुछ वस्तुएं ऐसी होती हैं, जिनका सेवन सोने से पहले किया जाना शरीर को बहुत अधिक नुकसान पहुंचा सकता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं खाने की कुछ ऐसी ही चीजों के बारे में जिनका सेवन यदि सोने से पहले किया जाए तो शरीर को बहुत नुकसान हो सकता है।

1. पास्ता (pasta) एक झट से तैयार होने वाला व्यंजन (dish) है, इसीलिए कई बार लोग देर रात को पास्ता खाकर सो जाते हैं, जबकि पास्ता में बहुत ज्यादा कार्बोहाइड्रेट (carbohydrates) व अन्य कई ऐसे पदार्थ होते हैं जिन्हें शरीर जल्दी से नहीं पचा पाता है। देर रात इसके सेवन से कब्ज व हाइपर एसिडिटी (hyper acidity) जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

2. ज्यादा मसालेदार खाना या मिर्च युक्त खाना भी रात के समय शरीर में पित्त बढ़ाने का काम करता है। जब मिर्ची को अन्य विशेष घटकों के साथ मिलाया जाता है तो यह बहुत स्वास्थ्यप्रद और लाभकारी होती है, लेकिन अधिक मिर्च व मसाले वाला खाना बहुत हानिकारक (dangerous) होता है।

3. देर रात को मिठाई (sweets) खाना भी सेहत की लिए ठीक नहीं होता है। मिठाई खाने से दांत खराब हो सकते हैं। मोटापा बढ़ता है। साथ ही, शरीर पर भी नकारात्मक प्रभाव (negative reaction) पड़ता है।

4. नूडल्स (noodles) में बहुत हाई-कैलोरी होती है। इसलिए इनका सेवन सोने से पहले नहीं करना चाहिए। जब आपको भूख लगती है तो यह एकमात्र ऐसा पदार्थ है, जो 30 मिनिट से भी कम समय में तैयार हो जाता है, लेकिन यह ध्यान रखें कि नूडल्स में कार्बोहाइड्रेट बहुत अधिक मात्रा में होता है जो वसा में बदल जाता है। सोने से पहले नूडल्स खाने से पेट से जुड़ी अनेक समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए सोने से पहले उच्च वसा युक्त पदार्थ से दूर रहना चाहिए।

5. नॉनवेज (no-veg) प्रोटीन और आयरन का बहुत अच्छा स्रोत है। यही कारण है कि रात के समय इसकी अधिक मात्रा लेने पर शांत और आरामदायक नींद नहीं आती है।

6. ज्यादा फाइबर वाली सब्जियां (fiber vegetables) या खाद्य पदार्थ जैसे ब्रोकोली, प्याज, पत्तागोभी आदि का सेवन रात को सोने से पहले नहीं करना चाहिए। दरअसल, इनमें जल्दी न पचने वाले फाइबर (रेशे) की मात्रा बहुत अधिक होती है। इस वजह से आप बहुत अधिक समय तक पेट भरा हुआ महसूस करते हैं। रात में इन्हें खाने से पाचन तंत्र में फाइबर की गति बहुत कम होती है। इसके कारण पेट फूलने जैसी समस्या हो सकती है।

7. चीज बर्गर (cheese burger) में अधिक मात्रा में वसा होती है। इस वजह से रात के समय इसे खाने से इसका ठीक से पाचन नहीं हो पाता है। इससे पेट से जुड़ी कई तरह की बीमारियां (infections) हो सकती हैं।

8. स्नैक्स (snacks), चिप्स (chips) आदि का सेवन भी सोने से पहले करने से शरीर को नुकसान होता है, क्योंकि इनमें बहुत अधिक मात्रा में मोनोसोडियम ग्लूटामेट होता है। इसके कारण नींद से संबंधित विभिन्न प्रकार की समस्याएं आ सकती हैं।

9. सोने से पहले कभी डार्क-चॉकलेट भी नहीं खाना चाहिए। डार्क चॉकलेट (dark chocolate) में कैफीन और अन्य कई ऐसे पदार्थ होते हैं। जो दिल की कार्य करने की क्षमता को बढ़ा देते हैं। जिसके कारण गहरी नींद नहीं आ पाती है और मस्तिष्क भी शांत नहीं रह पाता है।

10. रात को खाने पर शरीर के लिए पिज्जा (pizza) को पचाना बहुत मुश्किल होता है, क्योंकि पाचन तंत्र को दिन के समय ही इसे पचाने के लिए बहुत अधिक मेहनत करनी पड़ती है तो कल्पना कीजिए कि जब आप शाम के समय पिज्जा खाते हैं तो आपके पाचन तंत्र को कितनी मेहनत करनी पड़ती होगी।

जबकि यह पाचन तंत्र के आराम का समय होता है। पिज्जा में चिकनाई बहुत अधिक होती है। इसमें जो घटक होते हैं उनमें बहुत अधिक मात्रा में एसिड (Acid) होता है, जिसके कारण हार्टबर्न का खतरा बढ़ जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*