Home » Gyan » रोजमर्रा की घटनाएं बताती हैं ग्रहों की अशुभ स्थिति | Rojmara ki ghatnaaye batati hai graho ki ashubh stithi
dharmik
dharmik

रोजमर्रा की घटनाएं बताती हैं ग्रहों की अशुभ स्थिति | Rojmara ki ghatnaaye batati hai graho ki ashubh stithi




रोजमर्रा की घटनाएं बताती हैं ग्रहों की अशुभ स्थिति| Rojmara ki ghatnaaye batati hai graho ki ashubh stithi

नौ ग्रहों की स्थिति का मनुष्य के जीवन पर खास असर पड़ता है। किस ग्रह (grah) की स्थिति आपके लिए अशुभ साबित हो रही है, यह रोजाना (daily) की घटनाओं के आधार पर भी पता लगाया जा सकता है। कुछ लक्षण आपको बता सकते हैं कि किस ग्रह की अशुभ स्थिति आपको अशुभ फल दे रही है। जानिए, ग्रहों की स्थिति के अशुभ प्रभाव… (इन लक्षणों का कोई वैज्ञानिक (scientific) आधार नहीं है)

मनुष्य की अनेक इच्छाएं होती हैं जिन्हें वह पूरा करना चाहता है। हमारे धर्म शास्त्रों में मनोकामनाएं पूरी करने के लिए अनेक उपाय बताए गए हैं। उसी के अनुसार सप्ताह (week) के सातों दिन अलग-अलग देवताओं के पूजन का विधान बताया गया है जिनसे मनचाहे फल की प्राप्ति संभव (possible) है। शिवमहापुराण में इस संदर्भ में विस्तृत वर्णन मिलता है।

आलस आता है तो सूर्य की स्थिति अशुभ- अगर आपके चेहरे पर तेज का अभाव है, आप हमेशा थका-थका महसूस करते हैं, आलस्य (laziness) महसूस करते हैं, हृदय (heart) के आसपास कमजोरी (weakness) का आभास होता है तो समझ लीजिए सूर्य (sun) की स्थिति अशुभ है।

भावनाओं को प्राथमिकता देते हैं तो चंद्रमा अशुभ- अगर आप अक्सर निराश और दुखी रहते हैं, बात-बात पर रोते हैं तो समझ लीजिए आपका चंद्रमा अशुभ फल दे रहा है। मानसिक (mentally) असंतुलन और गुमसुम रहना भी चंद्रमा के अशुभ होने के लक्षण हैं।

आंखें कमजोर हों तो समझें मंगल की स्थिति अशुभ- आंख का कमजोर (weakness in eyes) होना, जोड़ों में दर्द, हड्डियों में दर्द, खून की कमी, पीलिया जैसे रोग कमजोर मंगल के लक्षण हैं।

कन्फ्यूज रहते हैं, अशुभ है बुध- हकलाकर बोलना, बार-बार हिचकी आना या किसी भी प्रकार का वाणी दोष बुध की अशुभ स्थिति का लक्षण है। इसके अलावा, कर्ज में पड़ना, पड़ोसियों (neighbors) से अनबन नर्वस सिस्टम (nervous system) का कमजोर पड़ना भी कमजोर बुध के लक्षण हैं।

बुरे सपना आना बृहस्पति की अशुभ स्थिति बताता है- बिना वजह आपको अपयश मिल रहा हो, दोष मढ़े जा रहे हों, श्वास दोष के शिकार हों, ऐसा महसूस करते हों कि किसी की गुलामी (slave) करनी पड़ रही है तो समझें आपका बृहस्पति कमजोर है। धन का चोरी होना, बुरे सपने (bad dreams) आना और असफल प्रेम भी कमजोर बृहस्पति के लक्षण हैं।

व्यवसाय, मान-सम्मान में हानि का कारण अशुभ शनि- धनहानि, रोजगार-व्यवसाय में हानि, मानहानि आदि अशुभ शनि के लक्षण हैं। बीमारी, अचानक मृत्यु या दुर्घटना (accident) आदि भी अशुभ शनि के लक्षण हैं।

अनिद्रा, बदनामी अशुभ राहू के लक्षण- किसी काम में अरुचि, रोजगार की हानि, बुरे स्वप्न आना, नींद न आना, बदनामी, घर से निकाला जाना आदि राहु की कमजोर (weakness) स्थिति के लक्षण हैं।

कर्ज बढ़ रहा है तो समझें अशुभ है केतू- अचानक कर्ज बढ़ने लगे, लड़ाई-झगड़े हों, आग से नुकसान हो, दुश्मन आपको नुकसान पहुंचाने में कामयाब हो तो समझिए केतू कि स्थिति अशुभ है।

(नोट- इन लक्षणों का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*