Home » Prernadayak/ Motivation » लगभग 20 मिनट में जानें अपने जीवन का उद्देश्य | lagbhag 20 minutes mein jaane apne jeevan ka udeshya | How to Discover Your Life Purpose in About 20 Minutes
dharmik
dharmik

लगभग 20 मिनट में जानें अपने जीवन का उद्देश्य | lagbhag 20 minutes mein jaane apne jeevan ka udeshya | How to Discover Your Life Purpose in About 20 Minutes




लगभग   20 मिनट  में  जानें  अपने  जीवन  का  उद्देश्य | lagbhag 20 minutes mein jaane apne jeevan ka udeshya | How to Discover Your Life Purpose in About 20 Minutes

आप  अपने  जीवन  का   असली  उद्देश्य (real motive)  कैसे  पता  करेंगे ? मैं  आपकी  job के  बारे  में  बात  नहीं  कर  रहा  हूँ  , या  फिर  आपकी  रोज़मर्रा  की  जिम्मेदारियों  या  आपके  long term goals के  बारे  में  भी  बात  नहीं  कर  रहा  हूँ . मेरा  मतलब  उस  असली  वजह  से  है  जिसके  लिए  आप  यहाँ  हैं —वो  वजह   जिसके लिए  आप  exist करते  हैं .या  शायद  आप  एक   नास्तिक  व्यक्ति  हैं  जो  ये  सोचता  है  कि  उसके  जीवन  का  कोई  उद्देश्य  नहीं  है , और  ज़िन्दगी  (life) का  कोई  मतलब  नहीं  है . इससे  कोई  फरक  नहीं  पड़ता . इस  बात  में  यकीं  रखना  की  life का  कोई  purpose नहीं  है  आपको  इसे  discover करने  से  नहीं  रोकता , ठीक  वैसे  ही  जैसे  गुरुत्वाकर्षण  में  यकीं  नहीं   होना  आपको  घूमने-घामने   से  नहीं  रोक  सकता . यकीं  ना  होने  से  बस  समय  थोडा  ज्यादा  लगेअगा , तो  अगर  आप  इस  तरह  के  व्यक्ति  हैं  तो  इस  पोस्ट  के  Title में  जो  नंबर  है  उसे  20 से  बढ़ा  कर  40 कर  दें  (या  60 अगर  आप  सच -मुच  जिद्दी  हैं ). ज्यादा  chance है  कि   अगर  आप  ये  believe करते  हैं  कि  आपकी  life का  कोई  purpose नहीं  है  तो  मैं  जो  कुछ  कह  रहा  हूँ  आप  उसमे  भी  believe नहीं  करेंगे , पर  फिर  भी , एक  घंटा  देने  में  क्या  जाता  है , क्या  पता  कुछ  पता  ही  चल  जाये ?

यदि  आप  अपनी  ज़िन्दगी  का  असली  मकसद  जानना  चाहते  हैं   तो  पहले  आपको  सिखाये  गए  सभी  व्यर्थ  के  मकसदों (including कि  आपकी  ज़िन्दगी  का  कोई  मकसद  ही  नहीं  है ) को  अपने  दिमाग (brain) से  निकलना  होगा .

तो  आप  अपने  जीवन  का  उद्देश्य  कैसे  पता  करेंगे ? वैसे   तो  यह  पता  करने  के   कई  तरीके  हैं , पर  यहाँ  मैं  आपको  एक  बहुत  ही  simple तरीका  बताऊंगा  जो  कोई  भी  अपना  सकता  है . आप  इस  तरीके  को  जितना  ज्यादा  accept करंगे , जितना  ज्यादा  इसके  काम  करने  की  अपेक्षा   करेंगे  यह  उतनी  ही  तेजी  से  आपके  लिए  काम  करेगा .पर   यदि  आप  इससे  ज्यादा  उम्मीद  ना  भी  करें , या   इसपे कुछ  doubt करें , यह  सोचें  कि  ये  तो  बेवकूफी (stupidity) है , समय  की  बर्वादी  है  तो  भी  यह  अप्पके  लिए  काम  करेगा , बस  ज़रुरत  है  कि  आप  इसके   साथ  लगे  रहिये .—पर  हाँ  , समय  कुछ  अधिक  लगेगा .

आपको  ये  करना  है :

1)      एक  blank page ले  लीजिये  या  फिर  एक  word file खोल  लीजिये .

2)      Top पर  लिखिए , “ मेरी  जीवन   का  असली  उद्देश्य   क्या  है ?”

3)      कोई  उत्तर  लिखिए  (कुछ  भी ) जो  आपके  दिमाग  में  आ  रहा  हो . पूरा  sentence लिखने  की  ज़रुरत  नहीं  है . एक  छोटा  सा   phrase काफी  है .

4)      Step 3 को  तब  तक  repeat कीजिये  जब  तक  की  आप  कोई  ऐसा  उत्तर   ना  लिख  लें  जिससे  आपको  रोना  आ   जाये . यही  आपके  जीवन  का  उद्देश्य  है .

बस  इतना  ही . इससे  कोई   मतलब  नहीं  है  की  आप  counselor हैं  engineer हैं  या  कोई  bodybuilder हैं .कुछ  लोगों  को  ये  exercise बिलकुल  उपयुक्त  लगेगी , कुछ  लोगो  को  कोरी  बकवास . Life का  purpose क्या  है  इसको  लेकर  हमारे  मन  में  जो  भी  हलचल  है  और  अपनी  Social conditioning की  वजह  से  हम   जो  कुछ  भी  इस  विषय  में  सोचते  हैं  उसे  clear करने   में  आम  तौर  पे  15-20 मिनट  लगेंगे.गलत  उत्तर   आपकी  memory और  mind से  आयेंगे . लेकिन  जब  आपको  सही  उत्तर  मिल   जायेगा  , आपको  अहसास  होगा  कि  यह  उत्तर (answer) किसी  बिलकुल  ही  अलग  जगह  से  आ  रहा  है .

वो  लोग  जो  अपनी  जड़े  जागरूकता  के  बिलकुल  निचले   स्तर (lower level) पर  जमा  चुके  हैं , उन्हें  सभी  गलत  उत्तर  निकालने   में  काफी  वक़्त  लगेगा , शायद  एक  घंटे  से भी  ज्यादा . लेकिन  यदि  आप , 100, 200 या  500 उत्तर  के  बाद  भी  लगे  रहेंगे  तो  आपको  वो  उत्तर  मिल   जायेगा  जो  आपकी  भावनाओं (emotions) को  बढ़ा  देगा , जो  आपको  रुला  देगा .यदि  आपने  पहले  कभी  ये  नहीं  किया  है  तो  शायद  ये  आपको  बहुत  मूर्खतापूर्ण  लगे . लगने   दीजिये  पर  इसे  करिए  ज़रूर .

आप  जैसे -जैसे  इस  प्रोसेस (process) से  गुजरेंगे  , आपके  कुछ  उत्तर  बहुत  एक  जैसे  लगेंगे , आप  चाहें  तो  पुराने  उत्तर  दुबारा  भी  लिख  सकते  हैं . आप  अचानक  एक  नयी  दिशा  में  सोच  सकते  हैं  और  10-20 नए  उत्तर भी लिख  सकते  हैं . That’s OK. आपके  दिमाग  में  जो  उत्तर  आये  आप  वो  लिख  सकते  हैं  बशर्ते  आप  लिखना  चालू  रखिये .

इस  दौरान  एक  समय  ऐसा  भी  आएगा  ( लगभग  50-100 answers के  बाद )  जब  आप  quit करना  चाहें , और  आप  खुद  को  उस  उत्तर  तक  पहुचते  ना  देख  प्  रहे  हों . आप  को  ऐसा  लग  सकता  है  कि  आप  किसी  बहाने  से  उठ  कर  कुछ  और  करने  लगें . ये  normal है . इस  अवरोध  को  पार  कीजिये , और  बस  लिखते  रहिये . अवरोध  का  अहसास (feel) कुछ  देर  में  ख़तम  हो  जायेगा .

शायद  आपको  बीच  में  कुछ  ऐसे  उत्तर  मिलें  जो   आपको  थोडा  emotional कर  दें , पर  वो   आपको  रुला  ना  पाएं — ऐसे  answers को  highlight करते  हुए  आगे  बढिए , ताकि  बाद  में  आप  इनपर  वापस  आकर  नए  संयोग  बना  सकें . हर  एक  उत्तर  आपके  purpose के  एक  हिस्से  को  दर्शाता  है , पर  खुद  में  वो  पूर्ण  नहीं  है . जब  आपको  ऐसे  उत्तर  मिलना  शुरू  हो  जायें  तो  इसका  मतलब  है  कि  आप  warm-up हो  रहे  हैं  . बस  आगे  बढ़ते  रहिये .

यह  ज़रूरी  है  कि  आप  इसे  अकेले  बिना  किसी  रूकावट  के  करिएँ .यदि  आप  नास्तिक  हैं  तो  आप  इस  उत्तर  से  शुरआत  कर  सकते  है  कि , “ मेरे  जीवन  का  कोई  उद्देश्य  नहीं  है ,” या  “ जीवन  निरर्थक  है ,’ और  वहां  से  आगे  बढिए , यदि  आप  लगे  रहेंगे  तो  आपको  उत्तर  ज़रूर  मिलेगा .

जब  मैंने  यह  exercise की  तो  मुझे  लगभग  25 मिनट  लगे , और  मैं  अपने  final answer तक  106 वें  step में  पहुंचा . उत्तर  के  कुछ  parts ( जब  मैं  थोडा  emotional हो  गया ) मुझे  step no. 17,39 और  53 में  मिले .और  सबसे  ज्यादा  step 100-106 में  मुझे  अपना  answer मिला  और  refine होता  गया .. मुझे  step 55-60 के  आस – पास  बहुत  अवरोध  मह्शूश  हुआ , लगा  कि  मैं  ये  छोड़  के  कुछ  और  करूँ , लगा  कि  ये  process fail हो  जायेगा , मैंने  काफी  impatient और  irritating feel किया . Step no. 80 के  बाद  मैंने  2 मिनट का  break ले  लिया , आँखे  बंद  कर  के  थोडा  relax किया  ,अपने  mind को  clear किया  और  इस  बात  पर  focus किया   कि  मेरी  intention जवाब  पाने  की  है . –ये  मददगार  साबित  हुआ  क्योंकि  break के  बाद  मुझे  और  भी  clear answers मिलने  लगे .

Here was my final answer: to live consciously and courageously, to resonate with love and compassion, to awaken the great spirits within others, and to leave this world in peace.

मेरा  final   answer   था : जागरूकता  और  साहस  के  साथ  जीवन  जीना ,प्रेम  और  दया  को अपनाना , दूसरों  के  अन्दर  की  महान  आत्माओं (souls) को  जगाना , और   इस  दुनिया  को  शांतिमय (peaceful) बनाकर छोड़ना.

जब  आपको  अपना  उत्तर  मिल  जायेगा  कि  आप  यहाँ  क्यों  हैं , तब  आप  feel करेंगे  की  वो  आपके  अंत -मन  को  छू  रहा  है . वो  शब्द  आपको  energetic लगेंगे  , और  आप  जब  भी  उन्हें  पढेंगे  तो  आप  उस  energy को  feel करेंगे .

उद्देश्य  को  जान  लेना  आसान  है  . कठिन  तो  यह  है  कि  उसे  हर  रोज़  अपने  साथ  रखना  और  खुद  पर  काम  करना  कि  एक  दिन  आप  खुद  वो  उद्देश्य  बन  जायें .

अगर  आप  यह  पूछना  चाहते  हैं  कि  यह  process काम  क्यों  करता  है  तो  आप  पहले  इस  question को  तब  तक   side में  रख  दीजिये जब  तक  आप  इस excercise  को सफलतापूर्वक  complete   नहीं  कर  लेते . और  जब  आप  ये  करलेंगे  तो  शायद   आपके  पास  अपना  खुद  का  एक  जवाब  होगा  कि  ये  काम   क्यों  करता  है . यदि  आप  10 ऐसे  लोगों  से ( जिन्होंने  इस  process को  successfully complete कर  लिया  है ) येही  प्रश्न  करें  तो  ज्यादा  chance है  कि  आपको  दस  अलग -अलग  उत्तर  मिलेंगे , जो  उनके  अपने  belief system के  हिसाब  से  होगा , और  हर  एक  में  सच्चाई  कि  अपनी   ही  छवि  होगी .

जाहिर  है  कि  अगर  आप  final answer आने  से  पहले  ही  quit कर  गए  तो  ये  process आपके  लिए  काम  नहीं  करेगा . मेरा  अनुमान  है  कि  80-90% लोगों  को  उत्तर  1 घंटे  के  अन्दर  मिल  जायेगा . अगर  आप  अपनी  धारणाओं  में  बहुत  ही  ज्यादा  उलझे  हुए  हैं  तो   शायद  आपको  5 sessions लगें  और  कुल  3 घंटे  का  वक़्त  लगे , पर  मुझे  संदेह  है  कि  ऐसे  व्यक्ति   पहले  ही  quit कर  जायेंगे  ( शायद  पहले  15 मिनट  में ) या  फिर  वो  इस  attempt ही  ना  करें . लेकिन  आप  इस  blog को  पढने  के  प्रति  आकर्षित  हुए  हैं  ( और  अभी  तक  इस  अपने  life से  बन  करने  के  बारे  में  नहीं   सोचा   है ), तो  शायद  ही  आप  इस  group को  belong करें .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*