Home » Tantra Mantra » वशीकरण सम्मोहन शक्तिवर्द्धक सरल उपाय – Vashikaran Sammohan hypnotism shaktivardhak saral upaaye
dharmik
dharmik

वशीकरण सम्मोहन शक्तिवर्द्धक सरल उपाय – Vashikaran Sammohan hypnotism shaktivardhak saral upaaye




 वशीकरण / सम्मोहन शक्तिवर्द्धक सरल उपाय : – Vashikaran Sammohan hypnotism shaktivardhak saral upaaye

१. मोर (peacock) की कलगी रेश्मी वस्त्र में बांधकर जेब में रखने से सम्मोहन शक्ति (hypnotize power) बढ़ती है।

२. श्वेत अपामार्ग की जड़ को घिसकर तिलक करने से सम्मोहन शक्ति बढ़ती है।

३. स्त्रियां अपने मस्तक पर आंखों के मध्य एक लाल बिंदी लगाकर उसे देखने का प्रयास करें। यदि कुछ समय बाद बिंदी खुद को दिखने लगे तो समझ लें कि आपमें सम्मोहन शक्ति जागृत (develop) हो गई है।

४. गुरुवार को मूल नक्षत्र में केले की जड़ को सिंदूर में मिलाकर पीस कर रोजाना तिलक करने से आकर्षण शक्ति (attraction power) बढ़ती है।

५. गेंदे का फूल, पूजा की थाली में रखकर हल्दी के कुछ छींटे मारें व गंगा जल के साथ पीसकर माथे पर तिलक लगाएं आकर्षण शक्ति बढ़ती है।

६. कई बार आपको यदि ऐसा लगता है कि परेशानियां व समस्याएं (problems) बढ़ती जा रही हैं। धन का आगमन रुक गया है या आप पर किसी “द्वारा तांत्रिक अभिकर्म” किया गया है तो आप यह टोटके अवश्य प्रयोग करें, आपको इनका प्रभाव जल्दी ही प्राप्त होगा।

तांत्रिक अभिकर्म से प्रतिरक्षण हेतु उपाय

१. पीली सरसों, गुग्गल, लोबान व गौघृत इन सबको मिलाकर इनकी धूप बना लें व सूर्यास्त के 1 घंटे भीतर उपले जलाकर (burn) उसमें डाल दें। ऐसा २१ दिन तक करें व इसका धुआं पूरे घर में करें। इससे नकारात्मक शक्तियां (negative powers) दूर भागती हैं।

२. जावित्री, गायत्री व केसर लाकर उनको कूटकर गुग्गल मिलाकर धूप बनाकर सुबह शाम २१ दिन तक घर में जलाएं। धीरे-धीरे तांत्रिक अभिकर्म समाप्त होगा।

३. गऊ, लोचन व तगर थोड़ी सी मात्रा में लाकर लाल कपड़े (red cloth) में बांधकर अपने घर में पूजा स्थान में रख दें। शिव कृपा से तमाम टोने-टोटके का असर समाप्त हो जाएगा।

४. घर में साफ सफाई रखें व पीपल के पत्ते से ७ दिन तक घर में गौमूत्र के छींटे मारें व तत्पश्चात् शुद्ध गुग्गल का धूप जला दें।

५. कई बार ऐसा होता है कि शत्रु आपकी सफलता व तरक्की से चिढ़कर (irritate) तांत्रिकों द्वारा अभिचार कर्म करा देता है। इससे व्यवसाय (business) बाधा एवं गृह क्लेश होता है अतः इसके दुष्प्रभाव से बचने हेतु सवा 1 किलो काले उड़द, सवा 1 किलो कोयला (coal) को सवा 1 मीटर काले कपड़े में बांधकर अपने ऊपर से २१ बार घुमाकर शनिवार के दिन बहते जल में विसर्जित करें व मन में हनुमान जी (shri hanuman ji) का ध्यान करें। ऐसा लगातार ७ शनिवार करें। तांत्रिक अभिकर्म पूर्ण रूप से समाप्त हो जाएगा।

६. यदि आपको ऐसा लग रहा हो कि कोई आपको मारना (want to kill you) चाहता है तो पपीते के २१ बीज लेकर शिव मंदिर जाएं व शिवलिंग पर कच्चा दूध चढ़ाकर धूप बत्ती करें तथा शिवलिंग के निकट बैठकर पपीते के बीज अपने सामने रखें। अपना नाम, गौत्र उच्चारित करके भगवान् शिव (bhagwan shri shiv ji) से अपनी रक्षा की गुहार करें व एक माला महामृत्युंजय मंत्र की जपें तथा बीजों को एकत्रित कर तांबे के ताबीज में भरकर गले में धारण कर लें।

७. शत्रु अनावश्यक परेशान कर रहा हो तो नींबू (leon) को ४ भागों में काटकर चौराहे पर खड़े होकर अपने इष्ट देव का ध्यान करते हुए चारों दिशाओं में एक-एक भाग को फेंक दें व घर आकर अपने हाथ-पांव धो लें। तांत्रिक अभिकर्म से छुटकारा मिलेगा।

८. शुक्ल पक्ष के बुधवार को ४ गोमती चक्र अपने सिर से घुमाकर चारों दिशाओं में फेंक दें तो व्यक्ति पर किए गए तांत्रिक अभिकर्म का प्रभाव खत्म (finish) हो जाता है।

5 comments

  1. hiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii

  2. ASHISH KUMAR SINGH

    Durbhagya vash pichle 2 saal se , parivarik samasyaon ke karan , mera jeevan nark ho gaya hai, mere pita ki mrityu 7 may 2014 ko ho gayi thi, uske baad mere bade bhai aur bhabhi ne dhoke se mere pita ki samast jamapunji maa ko dhoka dekar hadap li , ab unki niyat maa ke naam per jo ghar hai , jisme mey apne parivar ke saath rahta hun, aur bade bhai ka parivar bhi rahta hai’is ghar ko bhi hadpne ki koshish kar rahe hain , kripya koi upay bataye , yahi nahi ghar me bhi roj aisa koi na koi kaam karte rahte hain jis se meri life main problem ho, mera margdarshan kijiye

    • agar main tumhari jagah hota to bhai ko puchta ke kya problem hai ya kya baat hai, agar woh kehta mujhe makan chahiye to bolta theek hai mujhe mera share de do ya jo tum dena chahte ho woh bata do, thoda reasonable hota to main ghar chorr deta kyonki mujhe khud pe bharosa hai ke main sab khud bana lunga.

  3. ASHISH KUMAR SINGH

    “mey ishwar ki upasna kar kar ke bhi hatash ho gaya hun, lekin koi bhi cheez beasar hi maloom hoti hai, maine har tarah se prayas kiya lekin koi bhi nirakaran nahi ho paya, balki din prati din bade bhai aur bhabhi mujh per aur mere parivar per hawi hote ja rahein hain

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*