Home » Tantra Mantra » व्यापारी वर्ग के लिए कुछ उपाय जो उनके व्यापार को बढाने में मददगार रहेंगे और व्यापार को बुरी नज़र से बचायेंगे। | Vyapari varg ke liye kuch khaas upaaye jo unke vyapaar ko badane mein madadgar rahenege aur buri nazar se bachayenege
dharmik
dharmik

व्यापारी वर्ग के लिए कुछ उपाय जो उनके व्यापार को बढाने में मददगार रहेंगे और व्यापार को बुरी नज़र से बचायेंगे। | Vyapari varg ke liye kuch khaas upaaye jo unke vyapaar ko badane mein madadgar rahenege aur buri nazar se bachayenege




व्यापारी वर्ग के लिए कुछ उपाय जो उनके व्यापार को बढाने में मददगार रहेंगे और व्यापार को बुरी नज़र से बचायेंगे।  |  Vyapari varg ke liye kuch khaas upaaye jo unke vyapaar ko badane mein madadgar rahenege aur buri nazar se bachayenege

जैसे ही सुबह दूकान (shop) या ऑफिस (office) खोलें उसे पहले साफ़ करें या करवाएं उसके बाद लक्ष्मी जी के चित्र के सामने दीप धूप और अगरबत्ती जलाएं । इसके बाद नीचे दिया हुआ मंत्र 5 बार बोलें और इसके बाद ही दिन का काम काज शुरू करें ।

ॐ श्री शुक्ला महाशुक्ले निवासे ।
श्री महालक्ष्मी नमो नमः ||

अगर आप अपने ऑफिस या दूकान में तराजू इस्तेमाल करते हैं तो उसे रोज़ धोया करें । अगर इलेक्ट्रॉनिक मशीन (electronic machine) है तो हलके गीले कपडे से रोज़ सुबह साफ़ करिए ।

अगर आपको थोडा नुक्सान भी हो रहा हो तो सुबह आये हुए पहले ग्राहक को कभी खाली हाथ लौटने मत दें ।

अगर आपका कोई पुराना और पक्का ग्राहक आपको छोड़कर किसी अन्य व्यापारी (other businessman) के पास जा रहा है तो गेंदे के फूल के पत्ते घिसकर माथे पर उसका तिलक लगाकर उस व्यक्ति से बात करें वह आपका ग्राहक ही बना रहेगा ।

प्रत्येक  मंगलवार को पीपल के 11 पत्ते (leaves) लें । लाल चन्दन में गंगा जल की बूंदे डालकर उसका पेस्ट (paste) बनाएं और इस पेस्ट से हर एक पत्ते पर ” राम “ लिखें । इसके बाद इसे हनुमान मंदिर (shri hanuman madir) में चढ़ा दें । व्यवसाय में आप कभी असफल नहीं होंगे ।  अगर आप हिन्दू नहीं हैं तो अपने इष्ट का नाम पत्ते पर लिखें और अपने पूजनीय स्थल पर उसे अर्पण कर दें ।

ध्यान रहे यह क्रिया पूरी तरह से गोपनीय (secret) रखें और किसी को भी नहीं बताएं अन्यथा इसके फल नहीं मिलेगा ।

अगर आपके व्यवसाय पर कोई आपदा आई हुई है तो सोमवार को 11 बेल पत्र लें । थोडा केसर लें और उसमे गंगा जल की कुछ बूँदें डालकर उसका पेस्ट बना लें और इस पेस्ट से हर एक बेल पत्र पर ” ॐ नमः शिवाय” लिखें और इसके बाद इसे भगवान् शिव (bhagwan shri shiv ji) को नीचे दिया हुआ मंत्र पढ़ते हुए मंदिर में अर्पण कर दें । ऐसा 16 सोमवार तक लगातार करें । 16 सोमवार पूरे होने से भी पहले आपदा दूर हो जायेगी ।

त्रिदलम त्रिगुणाकारम त्रिनेत्रम च त्रयायुधम |
त्रिजन्म पाप संहारम एक बिल्व शिवार्पणं ||

ऑफिस या दूकान में शाम के समय भी पूजा अर्चना, धुप दीप अगरबत्ती जरूर करें । इससे नकारात्मक प्रभाव (negative energy) आपके व्यवसाय से और आपके ऑफिस से दूर रहता है ।

थोडा सा कच्चा सूत लें । उसे केसर के पेस्ट में डालकर रंग दें और दूकान या ऑफिस में कहीं भी बाँध दें । व्यापार में तरक्की के योग बनेंगे ।

7 हरी मिर्चें (green chillies) लें और एक पीला निम्बू (lemon) लें । इन सबमे से एक सुई की सहायता से एक काला  धागा पिरो लें । पिरोने के बाद ये ऊपर दी हुई फोटो जैसा लगेगा । इसके बाद इसे अपने घर या ऑफिस या दूकान के मुख्य दरवाज़े (main door) पर शनिवार को इस तरह से लटका दें की यह आने जाने वालों के सर से न टकराए । इसे आप रोज़, हफ्ते में एक बार या महीने में एक बार बदल सकते हैं । पुराने वाले को या तो मन्दिर में चढ़ा आयें या फिर घर या ऑफिस से दूर कहीं फैंक आयें । यह घर/व्यापार को बुरी नज़र से बचाता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*