Home » Tantra Mantra » सर्वकामना सिद्धि हेतु जपें भगवान परशुराम के विशेष मंत्र – sarvkaamana sidhi hetu jaapein bhagwan parshuram ke vishesh mantra
dharmik
dharmik

सर्वकामना सिद्धि हेतु जपें भगवान परशुराम के विशेष मंत्र – sarvkaamana sidhi hetu jaapein bhagwan parshuram ke vishesh mantra




सर्वकामना सिद्धि हेतु जपें भगवान परशुराम के विशेष मंत्र – sarvkaamana sidhi hetu jaapein bhagwan parshuram ke vishesh mantra

भगवान विष्णु (bhagwan shri vishnu ji) के दशावतार में छठे अवतार भगवान परशुराम माने जाते हैं। क्रोध और दानशीलता में उनका कोई सानी नहीं है। शस्त्र और शास्त्र के ज्ञाता सिर्फ और सिर्फ भगवान परशुराम ही माने जाते हैं। भगवान शिव ने उन्हें मृत्युलोक के कल्याणार्थ परशु अस्त्र प्रदा‍न किया जिससे वे परशुराम कहलाए। वे परम शिवभक्त (shiv bhakat) थे।

उन्होंने सहस्रार्जुन की इहलीला समाप्त कर दी। प्रायश्चित के लिए सभी तीर्थों में तपस्या की। गणेशजी को एकदंत करने वाले भी परशुराम थे। पृथ्वी को 17 बार क्षत्रियों से विहीन करने वाले भगवान परशुराम ही थे। उनकी दानशीलता ऐसी थी कि समस्त पृथ्‍वी (whole planet) ही ऋषि कश्यप को दान कर दी। उनके शिष्यत्व का लाभ दानवीर कर्ण ही ले पाए जिसे उन्होंने ब्रह्मास्त्र की दीक्षा ‍दी।

भगवान परशुराम की सेवा-साधना करने वाले भक्त भूमि, धन, ज्ञान, अभीष्ट सिद्धि, दारिद्रय से मुक्ति, शत्रु नाश, संतान प्राप्ति, विवाह, वर्षा, वाक् सिद्धि इत्यादि पाते हैं। महामारी से रक्षा (save) कर सकते हैं।

अक्षय तृतीया के दिन सर्वकामना की सिद्धि हेतु भगवान परशुराम के गायत्री मंत्र (gayatri mantra) का जाप करना चाहिए।

मंत्र इस प्रकार हैं : –

1. ‘ॐ ब्रह्मक्षत्राय विद्महे क्षत्रियान्ताय धीमहि तन्नो राम: प्रचोदयात्।।’
 
2. ‘ॐ जामदग्न्याय विद्महे महावीराय धीमहि तन्नो परशुराम: प्रचोदयात्।।’
 
3. ‘ॐ रां रां ॐ रां रां परशुहस्ताय नम:।।’

जप-ध्यान कर दशांस हवन करें तथा हर प्रकार की समस्याएं (problems) दूर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*