Home » Kahaniya/ Stories » सहनशीलता | Sahansheelta | Patience
dharmik
dharmik

सहनशीलता | Sahansheelta | Patience




सहनशीलता | Sahansheelta | Patience

महाराष्ट्र (maharashtra) में एक बहुत बड़े संत हुए हैं| उनका नाम था एकनाथ| वह सबसे प्रेम करते थे| कभी गुस्सा (angry) नहीं होते थे| एक दिन वह पूजा कर रहे थे कि एक आदमी उनकी गोद में आ बैठा| एकनाथ से प्रसन्न होकर कहा – “वाह! तुम्हारे प्रेम (love) से मुझे बहुत ही आनंद मिला है|

इसके बाद एकनाथ जब दोपहर (afternoon) का भोजन करने बैठे तो एक थाली उस आदमी के लिए भी परोसी गई| एकनाथ की पत्नी (wife) जैसे ही उसके पास आई कि वह उठकर उनकी पीठ पर सवार हो गया|

एकनाथ ने बड़े प्यार से अपनी पत्नी से कहा – “देखना कहीं वह भाई तुम्हारी पीठ पर से नीचे न गिर जाए!”

पत्नी बोली — “नहीं, आप चिंता (tension) न करें| मुझे अपने बेटे को पीठ पर लादे रहने का बड़ा अभ्यास (practice) हो गया है|”

वह आदमी लज्जित (shame) होकर एकनाथ के चरणों में गिर पड़ा| बोला – “महाराज आप मुझे क्षमा (sorry) करें| मुझसे एक आदमी ने कहा था कि अगर तुम एकनाथ को गुस्सा दिलाओगे तो हम तुम्हें सौ रुपए देंगे| इसलिए मैंने ऐसा किया| मुझे बड़ा दुख है|”

एकनाथ ने प्यार से उसे उठाकर कहा – “छोड़ो उस बात को| आओ, हम खाना शुरू करें|”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*