Home » Kahaniya/ Stories » सेवा का आदर्श | Seva ka Adarsh
dharmik
dharmik

सेवा का आदर्श | Seva ka Adarsh




सेवा का आदर्श | Seva ka Adarsh

एक बार युधिष्ठिर ने राजसूर्य यज्ञ करवाया| बहुत-से लोगों को आमंत्रित (invite) किया| भगवान श्रीकृष्ण (bhagwan shri krishan ji) भी आए| उन्होंने युधिष्ठिर से कहा – “सब लोग काम कर रहे हैं| मुझे भी कोई काम दे दीजिए|”

युधिष्ठिर (yudhisthir) ने उनकी ओर देखकर कहा – “आपके लिए हमारे पास कोई काम (work) नहीं है|”

श्री कृष्ण बोले – “लेकिन मैं बेकार नहीं रहना चाहता| मुझे कुछ-न-कुछ काम तो दे ही दीजिए|”

युधिष्ठिर ने कहा – “मेरे पास तो कोई काम है नहीं| यदि आपको कुछ करना ही हो तो अपना काम आप स्वयं तलाश (Search- find) कर लीजिए|”

श्रीकृष्ण बोले – “ठीक है मैंने अपना काम खोज लिया|”

युधिष्ठिर ने उत्सुकता से पूछा – “क्या काम खोज लिया?”

कृष्ण ने कहा – “मैं सबकी जूठी पत्तलें उठाऊंगा और सफाई (clean) करूंगा|” यह सुनकर युधिष्ठिर अवाक् रह गए| कृष्ण ने वही किया| सेवा से बढ़कर और क्या हो सकता है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*