Home » Kahaniya/ Stories » हनुमान: एक मधुर सुत्र | Shri Hanuman ji Ek Madhur Sutra
hanuman ji
hanuman ji

हनुमान: एक मधुर सुत्र | Shri Hanuman ji Ek Madhur Sutra




हनुमान: एक मधुर सुत्र | Shri Hanuman ji Ek Madhur Sutra

हनुमान …….आपार शक्ति, विवेक एवं शीलता तो उनका अक्स्मात परिचय (introduction) हैं । लेकिन आज प्रभु के वो स्वरुप की अनुभुति हुई की मन मुग्ध हो गया ।

प्रभु तो पवनपुत्र हैं, लेकिन वो तो शंकर के भी पुत्र (son) हैं। एक कथा (story) शायद आपने सुनी ना हो । एक बार प्रभु शिव तथा माता पार्वती वन क्रीडा में लीन थे । दोनों वानर रूप धारण कर काम क्रीडा के उत्सुक हुए। किन्तु माता पार्वती ने वानर (monkey) रूप धारी प्रभु शंकर के वीर्य को धारण करना अस्वीकार किया । प्रभु शंकर का वीर्य धारण करने के लिये वरुण देव उपस्थित (present) हुये । जिस प्रकार कुमार कार्तिकेय के जऩ्म (birth) के समय अग़्नि ने प्रभु शिव का वीर्य धारण किया था उसी प्रकार आज वरुण ने किया । किन्तु जैसी उष्मा, जैसी शक्ति उसमे तब थी वैसी ही तो आज भी थी ना । वीर्य की रक्षा तो वरुण ने की किन्तु धारण तो उसे एक स्त्री (women) की शीलता ही कर सकती थी । माँ अंजना ने प्रभु शिव के दैविक वीर्य को धारण किया और तब यह धरती प्रभु हनुमान के आगम्न से सुखी हुई । शिव-पार्वती, अंजना-केसरी, वरुण, सुर्य कितने ही असीम व्यकित्त्व हनुमान के जीवन में समावेश हैं । लेकिन हनुमान तो हनुमान तभी हुये जब प्रभु राम कि कृपा तथा सेवा से वो अनुग्रहित हुए । इतना दिव्य हो जिस प्रभु का जीवन (life), उस हनुमान को क्यूँ नहीं स्मरण (remember) करें?

प्रभु हनुमान कि वंदना शिव-शक्ति तथा विष्णु-लक्ष्मी वंदना का समावेश है । एक सुत्र है दो भक्ति समुदायों के बीच । एक सुत्र है मनुष्य को आलोकिक संसार से जोडने का । एक चेतना है जो यह अव्लोकन कराती है कि जब एक वानर प्रभु भक्ति में लीन हो सकता है, तो हम जीव शीरोमणि क्यों नहीं ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*