Home » Bhajan (page 2)

Bhajan

ॐ का उच्चारण कैसे करें | Om ka uccharan kaise kare

dharmik

ॐ का उच्चारण कैसे करें | Om ka uccharan kaise kare किसी शांत जगह (calm place) का चुनाव करें।   यदि सुबह (morning) जल्दी उठकर जाप कर पाएं तो बहुत अच्छा। यदि ऐसा संभव न हो, तो रात को सोने (before sleep) से पहले इसका जाप करें। *  यदि खुली जगह जैसे कोई मैदान, छत या बगीचा न हो तो ...

Read More »

डम डम डम डमरु बाजे डमरु बाजे | Dum dum dum Dumroo Baje Dumroo Baaje

dharmik

डम डम डम डमरु बाजे डमरु बाजे  |  Dum dum dum Dumroo Baje Dumroo Baaje डम डम डम डमरु बाजे डमरु बाजे… डम डम डम डमरु बाजे डमरु बाजे, अरे शिव नाथ शिव शम्भू भजे अरे शिव नाथ शिव शम्भू भजे घन घन घन घन घन्टा बाजे घन घन घन घन घन्टा बाजे अरे शिव नाथ शिव शम्भू भजे अरे ...

Read More »

रघुबर तुमको मेरी लाज | Raghubar tumko meri laaj

dharmik

रघुबर तुमको मेरी लाज सदा सदा मैं शरण तिहारी तुम हो ग़रीब नेवाज रघुबर तुम हो ग़रीब नेवाज रघुबर तुमको मेरी लाज पतित उधारन विरद तिहारो श्रवन न सुनी आवाज हूँ तो पतित पुरातन कहिये पार उतारो जहाज रघुबर पार उतारो जहाज रघुबर … अघ खण्डन दुख भंजन जन के यही तिहारो काज रघुबर यही तिहारो काज तुलसीदास पर किरपा ...

Read More »

रघुपति राघव राजा राम

dharmik

रघुपति राघव राजा राम रघुपति राघव राजा राम पतित पावन सीता राम सीता राम सीता राम भज प्यारे तू सीता राम रघुपति … ईश्वर अल्लाह तेरे नाम सबको सन्मति दे भगवान रघुपति … रात को निंदिया दिन तो काम कभी भजोगे प्रभु का नाम करते रहिये अपने काम लेते रहिये हरि का नाम रघुपति …

Read More »

अर्थ न धर्म न काम रुचि, पद न चहहुं निरवान | Arth Na Dharma na kaam ruchi, pad na chahahun nirvaan

dharmik

अर्थ न धर्म न काम रुचि, पद न चहहुं निरवान  |  Arth Na Dharma na kaam ruchi, pad na chahahun nirvaan अर्थ न धर्म न काम रुचि, पद न चहहुं निरवान | जनम जनम रति राम पद, यह वरदान न आन || रहे जनम जनम तेरा ध्यान, यही वर दो मेरे राम सिमरूँ निश दिन हरि नाम, यही वर दो ...

Read More »

मेरे मन में हैं राम मेरे तन में है राम | Mere mann mein hai Shri Ram ji mere tan mein hai Shri Ram ji

dharmik

मेरे मन में हैं राम मेरे तन में है राम  |  Mere mann mein hai Shri Ram ji mere tan mein hai Shri Ram ji मेरे मन में हैं राम मेरे तन में है राम मेरे मन में हैं राम मेरे तन में है राम । मेरे नैनों की नगरिया में राम ही राम ॥ मेरे रोम रोम के हैं ...

Read More »

स्वस्थ रहने की 10 अच्छी आदतें | Svastha rehne ke 10 aachi aadtein

dharmik

 स्वस्थ रहने की 10 अच्छी आदतें | 10 habits to live healthy * कहीं भी बाहर से घर आने के बाद, किसी बाहरी वस्तु को हाथ लगाने के बाद, खाना बनाने से पहले, खाने से पहले, खाने के बाद और बाथरूम का उपयोग करने के बाद हाथों को अच्छी तरह साबुन से धोएं। यदि आपके घर में कोई छोटा बच्चा ...

Read More »