Home » Kahaniya/ Stories (page 2)

Kahaniya/ Stories

सफल जीवन | Safal jeevan

dharmik

सफल जीवन | Safal jeevan एक बेटे ने आपने पिता (father) से पूछा – पापा ये ‘सफल जीवन’ क्या होता है ? यह बात सुनकर पिता, बेटे (son) को पतंग उड़ाने ले गए। बेटा पिता को ध्यान से पतंग उड़ाते देख रहा था… थोड़ी देर बाद बेटा बोला, पापा.. ये धागे की वजह से पतंग (kite) और ऊपर नहीं जा ...

Read More »

नियम वह होने चाहिए जिससे सव्य भगवान भी प्रसन्न हों | Niyam wah hona chahiye jis se swayam bhagwan bhi prassan ho

dharmik

नियम वह होने चाहिए जिससे सव्य भगवान भी प्रसन्न हों | Niyam wah hona chahiye jis se swayam bhagwan bhi prassan ho यह बात उन दिनों की है जब महाराज युधिष्ठिर (Maharaja Yudhisthir) इंद्रप्रस्थ पर राज्य करते थे। राजा होने के नाते वे काफी दान पुन्य भी काफ़ी करते थे। धीरे-धीरे उनकी प्रसिद्धि दानवीर के रूप में फैलने लगी और ...

Read More »

प्रेरक कहानी – तीन गुरु| Prerak Kahani – Teen Guru

dharmik

प्रेरक कहानी – तीन गुरु| Prerak Kahani – Teen Guru बहुत समय पहले की बात है, किसी नगर में एक बेहद प्रभावशाली महंत (Mahant) रहते थे । उन के पास शिक्षा लेने हेतु दूर दूर से शिष्य आते थे। एक दिन एक शिष्य (Student) ने महंत से सवाल किया, ” स्वामीजी आपके गुरु कौन है ? आपने किस गुरु (Guru- ...

Read More »

एक कहानी – खंडहरों का शहर | Ek Kahani – Khandharo ka Shahar

dharmik

एक कहानी – खंडहरों का शहर | Ek Kahani – Khandharo ka Shahar एक बार बुरी आत्माओं (Bad Spirits) ने भगवान (Bhagwan- God) से शिकायत की कि उनके साथ इतना बुरा व्यवहार क्यों किया जाता है, जबकी अच्छी आत्माएं इतने शानदार महल (Mahal) में रहती हैं और हम सब खंडहरों में, आखिर ये भेदभाव क्यों है, जबकि हम सब भि ...

Read More »

एक प्रसिद कथा – भगवान की खोज ! ek prasidh katha – Bhagwan ki Khoj

dharmik

एक प्रसिद कथा – भगवान की खोज ! ek prasidh katha – Bhagwan ki Khoj तेरहवीं सदी में महाराष्ट्र (maharashtra) में एक प्रसिद्द संत (Sant) हुए जिनका नाम था संत नामदेव (Sant Namdev Ji)। कहा जाता है कि जब वे बहुत छोटे थे तभी से भगवान की भक्ति (Bhagwan ki Bhakti) में डूबे रहते थे। बाल -काल में ही एक ...

Read More »

कहानी स्वामिभक्त सेनापति की| | Kahaani swamibhakat senapati ki

dharmik

कहानी स्वामिभक्त सेनापति की| | Kahaani swamibhakat senapati ki बहुत पहले कि बात है प्राचीनकाल में सुंदरपुर जंगल (Sunderpur Jungle) में राजा कौआ अपनी रानी के साथ एक घने पेड़ पर रहता था| वह उसे बहुत प्यार करता था| एक दिन दोनों न जाने क्या सोचकर महल की ओर उड़ चले| वहाँ स्वादिष्ट मछली (Delicious Fish) देखकर रानी के मुहँ ...

Read More »

वृंदा कैसे बनी माता तुलसी, पढ़ें एक रोमांचक पौराणिक कथा | Vrinda kaise bani mata tulsi , pade ek romanchak katha.

dharmik

वृंदा कैसे बनी माता तुलसी, पढ़ें एक रोमांचक पौराणिक कथा | Vrinda kaise bani mata tulsi , pade ek romanchak katha. पौराणिक काल (Poranik Kaal) में एक थी लड़की जिसका नाम था वृंदा। उसका जन्म राक्षस कुल में हुआ था। वृंदा बचपन से ही भगवान श्री विष्णु जी की परम भक्त थी। वह बड़े ही प्रेम से भगवान श्री विष्णु जी ...

Read More »

महाभारत की कथा – कलियुग की पाँच कड़वी सच्चाईयाँ !! | Mahabharat ki katha – Kalyug ki paanch kadvi sachaiyan

dharmik

महाभारत की कथा – कलियुग की पाँच कड़वी सच्चाईयाँ !! | Mahabharat ki katha – Kalyug ki paanch kadvi sachaiyan महाभारत (Mahabharat) के समय की बात है पाँचों पाण्डवों (Pandav) ने भगवान श्रीकृष्ण से कलियुग (Kalyug) के बारे में चर्चा की और कलियुग के बारे में विस्तार से पुछा और जानने की इच्छा जाहिर की कि कलियुग में मनुष्य कैसा ...

Read More »

नीतिवान सन्यासी | Nitiwaan Sanyasi

dharmik

नीतिवान सन्यासी | Nitiwaan Sanyasi नगर के बाहर बने शिव मंदिर (Bhagwan Shri Shiv Mandir) में ताम्रचूड़ नामक एक सन्यासी रहता था, जो उस नगर में भिक्षा (begging) माँगकर बड़े सुख से अपना जीवन व्यतीत कर रहा था| वह अपने खाने-पीने से बचे अन्न-धान्य को एक भिक्षा पात्र में रख देता और फिर उस पात्र को रात्रि में खूंटी पर ...

Read More »

श्रेष्ठ कौन? | Shrestha Kaun ?

dharmik

श्रेष्ठ कौन? | Shrestha Kaun ? कौशल नरेश मल्लिक न्यायप्रिय और शक्तिशाली राजा (Powerful King) था| लेकिन उसे अपनी योग्यता (Talent) पर बिल्कुल भी भरोसा नही था| वह सोचता, ‘लोग उसे अच्छा कहते है, क्या मैं सचमुच ही अच्छा हूँ?’ एक दिन दरबार में उसने अपने मंत्रियों से पूछा, ‘सच-सच बताना, क्या किसीको मुझमें कोई दोष है?’ ‘नही महाराज|’ मंत्रियों ...

Read More »