Home » Prernadayak/ Motivation (page 5)

Prernadayak/ Motivation

बच्चों को जिम्मेदार व स्वावलंबी बनाने के लिए ज़रूरी 10 बातें | Bacho ko zimevar evam svayambi banane ke iye zaroori 10 baatein

dharmik

बच्चों को जिम्मेदार व स्वावलंबी बनाने के लिए ज़रूरी 10 बातें| Bacho ko zimevar evam svayambi banane ke iye zaroori 10 baatein हम अपने बच्चों (kids) को सारी खुशियां देना चाहते हैं क्योंकि हममें से बहुतों ने बहुत सादा बचपन बिताया. हमारे पैरेंट्स (parents) के पास विकल्प सीमित थे इसलिए हम अपने बच्चों को उन चीजों से वंचित नहीं रखना ...

Read More »

सोच का फ़र्क | Soch ka fark

dharmik

सोच का फ़र्क| Soch ka fark एक शहर में एक धनी व्यक्ति रहता था, उसके पास बहुत पैसा था और उसे इस बात पर बहुत घमंड भी था| एक बार किसी कारण से उसकी आँखों में इंफेक्शन (infection) हो गया| आँखों में बुरी तरह जलन होती थी, वह डॉक्टर (doctor) के पास गया लेकिन डॉक्टर उसकी इस बीमारी (infection) का ...

Read More »

पढ़ाई हो गई पूरी तो कहाँ रही कमी? | Padai ho gayi poori to kaha reh gayi kami ?

dharmik

पढ़ाई हो गई पूरी तो कहाँ रही कमी?| Padai ho gayi poori to kaha reh gayi kami ? रिक्रूटमेंट सेक्टर (Recruitment Sector) से जुड़ी कंपनी करियर बिल्डर इंडिया (Career Builder India) के ताज़ा सर्वे में चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं. यह सर्वे 400 से ज्यादा कंपनियों के बीच हुआ था, अधिकतर कंपनियों के मुताबिक बदलते माहौल में भी शिक्षण ...

Read More »

ज्योतिष विज्ञान व्यवसाय में किस प्रकार सहायक होता है | How astrology helpful in businesses

dharmik

ज्योतिष विज्ञान व्यवसाय में किस प्रकार सहायक होता है | How astrology helpful in businesses जिन्दगी (life) की को चलाने के लिए रोजगार की जरूरत सभी को होती है. रोजगार का चुनाव सही होता है तो व्यक्ति को सफलता मिलती है. रोजगार की तलाश में ज्योतिष विज्ञान (astrology science) किस प्रकार सहायक हो सकता है आइये देखें. नौकरी व्यापार स्थिति ...

Read More »

कैसे रहें खुश, How to Be Happy | Kaise khush rahe

dharmik

कैसे रहें खुश, How to Be Happy| Kaise khush rahe एक बार एक अध्यापक (teacher) कक्षा में पढ़ा रहे थे अचानक ही उन्होंने बच्चों की एक छोटी सी परीक्षा (test) लेने की सोची । अध्यापक ने सब बच्चों से कहा कि सब लोग अपने अपने नाम की एक पर्ची बनायें । सभी बच्चों ने तेजी से अपने अपने नाम की ...

Read More »

लगभग 20 मिनट में जानें अपने जीवन का उद्देश्य | lagbhag 20 minutes mein jaane apne jeevan ka udeshya | How to Discover Your Life Purpose in About 20 Minutes

dharmik

लगभग   20 मिनट  में  जानें  अपने  जीवन  का  उद्देश्य | lagbhag 20 minutes mein jaane apne jeevan ka udeshya | How to Discover Your Life Purpose in About 20 Minutes आप  अपने  जीवन  का   असली  उद्देश्य (real motive)  कैसे  पता  करेंगे ? मैं  आपकी  job के  बारे  में  बात  नहीं  कर  रहा  हूँ  , या  फिर  आपकी  रोज़मर्रा  की  जिम्मेदारियों  ...

Read More »

जीवन में लक्ष्य का होना ज़रूरी क्यों है ? | Jeevan mein lakshya ka hona jaroori kyon hai ?

dharmik

जीवन में लक्ष्य का होना ज़रूरी क्यों है ?| Jeevan mein lakshya ka hona jaroori kyon hai ? यदि  आपसे पूछा जाये कि क्या आपने अपने लिए कुछ लक्ष्य निर्धारित कर रखे हैं तो आपके सिर्फ दो ही जवाब हो सकते हैं: हाँ या ना . अगर जवाब हाँ है तो ये बहुत ही अच्छी बात है क्योंकि ज्यादातर लोग ...

Read More »

कहावतें | Kahavatein

dharmik

कहावतें | Kahavatein समय से जुडी हुयी कहावतें समय महान चिकित्सक (doctor) है। समय किसी की प्रतीक्षा (wait) नही करता। हर दिन वर्ष का सर्वोत्तम (best) दिन है। एक झूठ (one lie) छिपाने के लिये दस झूठ बोलने पडते है। प्रकृति (nature) के सब काम धीरे-धीरे होते है। प्रेम के बारे में कहावतें मुस्कान (smile) प्रेम की भाषा (language) है। ...

Read More »

अनमोल वचन हिंदी में | Anmol Vachan in hindi

dharmik

अनमोल वचन हिंदी में | Anmol Vachan in hindi जिसने  ज्न्यान  को  आचरण  में  उतार  लिया , उसने  ईश्वर (ishwar-bhagwan) को  मूर्तिमान  कर  लिया  – विनोबा भावे (vinoda bhave) मनुष्य  का  सबसे  बड़ा  शत्रु  (enemy) उसका  अज्न्यान  है  – चाणक्य (chanakya) आपका  आज  का  पुरुषार्थ  आपका  कल  का  भाग्य (future) है  – पालशिरू क्रोध (anger) एक  किस्म  का  क्षणिक  पागलपन  ...

Read More »

जब किसी को गुरु बनाएं तो जरूर देखें ये गुण | Jab kisi ko guru banaye to zaroor dekhe yeh gunn

dharmik

जब किसी को गुरु बनाएं तो जरूर देखें ये गुण | Jab kisi ko guru banaye to zaroor dekhe yeh gunn हर इंसान के दिल में अपनी प्रकृति (nature) के अनुसार विचार पनपता है। उसी विचार के अनुसार वह काम करता है। महादेवी वर्मा जब भागलपुर (bhagalpur) में अपने पिता के घर पर रहकर कॉलेज (college) की पढ़ाई कर रही थीं। ...

Read More »