Home » Kahaniya/ Stories » माँ और बीवी | Mother and Wife
dharmik
dharmik

माँ और बीवी | Mother and Wife




माँ और बीवी  | Mother and Wife

वाह रे जमाने तेरी हद हो गई,
बीवी के आगे माँ रद्द हो गई !
बड़ी मेहनत से जिसने पाला,
आज वो मोहताज हो गई !
और कल की छोकरी,
तेरी सरताज हो गई !
बीवी हमदर्द और माँ सरदर्द हो गई !
वाह रे जमाने तेरी हद हो गई.!!

पेट (stomach) पर सुलाने वाली,
पैरों (legs) में सो रही !
बीवी के लिए लिम्का (limca),
माँ पानी (water) को रो रही !
सुनता नहीं कोई, वो आवाज देते सो गई !
वाह रे जमाने तेरी हद हो गई.!!

माँ मॉजती बर्तन (crockery),
वो सजती संवरती है !
अभी निपटी ना बुढ़िया (old lady) तू ,
उस पर बरसती है !
अरे दुनिया को आई मौत (death),
तेरी कहाँ गुम (lost) हो गई !
वाह रे जमाने तेरी हद हो गई .!!

अरे जिसकी कोख में पला,
अब उसकी छाया (shadow) बुरी लगती,
बैठ होण्डा (honda) पे महबूबा,
कन्धे पर हाथ जो रखती,
वो यादें अतीत की,
वो मोहब्बतें माँ की, सब रद्द हो गई !
वाह रे जमाने तेरी हद हो गई .!!

बेबस हुई माँ अब,
दिए टुकड़ो पर पलती है,
अतीत को याद कर,
तेरा प्यार (love/care) पाने को मचलती है !
अरे मुसीबत जिसने उठाई, वो खुद मुसीबत
हो गई !
वाह रे जमाने तेरी हद हो गई .!!
I love so much my mother

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*