शनी की महत्ता | Shri Shanidev ji ki Mahatavta

dharmik

शनी की महत्ता | Shri Shanidev ji ki Mahatavta एक समय स्वर्गलोक (heaven) में सबसे बड़ा कौन के प्रश्न को लेकर सभी देवताओं में वाद-विवाद (argument) प्रारम्भ हुआ और फिर परस्पर भयंकर युद्ध की स्थिति बन गई। सभी देवता देवराज इंद्र के पास पहुंचे और बोले, हे देवराज! आपको निर्णय करना होगा कि नौ ग्रहों में सबसे बड़ा कौन है? ...

Read More »

लालच बुरी बला | Laalch Buri Bala

dharmik

लालच बुरी बला  |  Laalch Buri Bala एक बार भगवान श्रीकृष्ण बलरामजी के साथ हस्तिनापुर गए। उनके हस्तिनापुर चले जाने के बाद अक्रूर और कृतवर्मा ने शतधन्वा को स्यमंतक मणि छीनने के लिए उकसाया। शतधन्वा बड़े दुष्ट और पापी स्वभाव (nature) का मनुष्य था। अक्रूर और कृतवर्मा के बहकाने पर उसने लोभवश सोए हुए सत्राजित को मौत के घाट (killed) ...

Read More »

अनोखा मंत्र | Anokha Mantar

dharmik

अनोखा मंत्र  |  Anokha Mantar रामानुजाचार्य प्राचीन काल में हुए एक प्रसिद्ध विद्वान थे। उनका जन्म (birth) मद्रास नगर के समीप पेरुबुदूर गाँव (village) में हुआ था। बाल्यकाल में इन्हें शिक्षा ग्रहण करने के लिए भेजा गया। रामानुज के गुरु ने बहुत मनोयोग से शिष्य को शिक्षा दी। शिक्षा समाप्त होने पर वे बोले-‘पुत्र, मैं तुम्हें एक मंत्र की दीक्षा ...

Read More »

सच्ची वीरता | Sacchi veerta

dharmik

सच्ची वीरता  |  Sacchi veerta बहुत पुरानी बात है| किसी पहाड़ी प्रदेश (state) में एक राजा (king) राज किया करता था| एक बार उसके राज्य पर दूसरे राजा ने चढ़ाई कर दी| उसे भगाने के लिए राजा ने एक सेना (army) तैयार की| उसमें जो लोग भर्ती हुए, उन सबको उसने एक-एक तलवार (sword) दी|  फिर राजा ने आदेश दिया ...

Read More »

श्राद्ध कर्म से कैसे मिलती सूक्ष्म शरीर को ताकत|Shradh Karam se kaise milti sooksham shareer ko taqat

dharmik

श्राद्ध कर्म से कैसे मिलती सूक्ष्म शरीर को ताकत|Shradh Karam se kaise milti sooksham shareer ko taqat  ।। स्वधर्मे निधनं श्रेय: परधर्मो भयावह:।। अर्थात : स्वयं के धर्म में निधन होना कल्याण कारण है जबकि दूसरे के धर्म में मरना भय को देने वाला है। मरने के बाद (after death) व्यक्ति की 3 तरह की गतियां होती हैं- 1. उर्ध्व ...

Read More »

भगवान शिव से जुड़ी 12 गुप्त बातें, जानिए | Bhagwan Shiv Ji se judi 12 gupt baatein

dharmik

भगवान शिव से जुड़ी 12 गुप्त बातें, जानिए | Bhagwan Shiv Ji se judi 12 gupt baatein ‘शिव का द्रोही मुझे स्वप्न में भी पसंद नहीं।’- भगवान राम आइंस्टीन (einstein) से पूर्व शिव ने ही कहा था कि ‘कल्पना’ ज्ञान से ज्यादा महत्वपूर्ण है। हम जैसी कल्पना और विचार करते हैं, वैसे ही हो जाते हैं। शिव ने इस आधार ...

Read More »

भारतेंदु हरिश्चंद्र वार (Day-Din) के अनुसार करते थे कागज का प्रयोग|Bhartendu Harishchandra var ke anusaar karte the kaagaj ka prayog

dharmik

भारतेंदु हरिश्चंद्र वार (Day-Din) के अनुसार करते थे कागज का प्रयोग|Bhartendu Harishchandra var ke anusaar karte the kaagaj ka prayog साहित्यकार, पत्रकार, कवि और नाटककार भारतेंदु हरिश्चंद्रजी का ज्योतिष पर पूर्ण विश्वास (full trust on astrology) था। उनके द्वारा लिखी जाने वाली रचनाओं का कागज (paper) वार के अनुसार होता था। चाहे जो हो, वे इसे साहित्यिक ज्योतिष कहा करते ...

Read More »

स्वस्थ शरीर है सबसे बड़ा खजाना|Swasth shareer hai sabse bada khajana

dharmik

स्वस्थ शरीर है सबसे बड़ा खजाना|Swasth shareer hai sabse bada khajana आधुनिक जीवन शैली की तेज रफ्तार एवं भागदौड़ भरी जिंदगी में सेहत का विषय (topic of health) बहुत पीछे रह गया है और नतीजा यह निकला की आज हम युवावस्था (younger age) में ही ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, ह्रदय रोग, कोलेस्ट्रोल, मोटापा, गठिया, थायरॉइड जैसे रोगों से पीड़ित होने लगे ...

Read More »

एलर्जी: कारण, लक्षण एवं उपचार | Allergy: Kaaran lakshan evam upchaar

dharmik

एलर्जी: कारण, लक्षण एवं उपचार  |  Allergy: Kaaran lakshan evam upchaar एलर्जी या अति संवेदनशीलता आज की लाइफ में बहुत तेजी से बढ़ती हुई सेहत की बड़ी परेशानी है (health problem) कभी कभी एलर्जी गंभीर परेशानी का भी सबब बन जाती है जब हमारा शरीर किसी पदार्थ के प्रति अति संवेदनशीलता दर्शाता (showing too much sensitivity) है तो इसे  एलर्जी ...

Read More »

बारिश के मौसम में कैसे रखें अपनी सेहत का ख़याल | Baarish ke mausam mein kaise rakhein apni sehat ka khayal

dharmik

बारिश के मौसम में कैसे रखें अपनी सेहत का ख़याल  |  Baarish ke mausam mein kaise rakhein apni sehat ka khayal इस बार वर्षा ऋतु (rainy season) का आगमन समय से पहले हो गया है। ग्रीष्मकाल के समाप्ति के बाद तपती हुई धरती पर जब बारीश की रिम-झिम बौछारे गिरती है तो वह समस्त सजीव को तरो तजा तो करती ...

Read More »
google-site-verification: google31779ae1b770d891.html