श्री गणपति के चौदह पवित्र नाम | Bhagwan Shri Ganesh ji ke 14 pavitra naam

dharmik

श्री गणपति के चौदह पवित्र नाम  |  Bhagwan Shri Ganesh ji ke 14 pavitra naam विश्व भर में प्रथम पूज्य भगवान श्री गणेशजी के चौदह नामों का जो कोई भी व्यक्ति नित्य स्मरण करता है, उसे निश्चित रूप से ही अभिष्ट फल की प्राप्ति होती है। वैसे भी भगवान गणेश बुद्धि के देवता माने गए हैं। जब उनकी आराधना क‍ी ...

Read More »

गणेश भगवान से मांगें हर वरदान | Bhagwan Shri Ganesh ji se maange har vardaan

dharmik

गणेश भगवान से मांगें हर वरदान  |  Bhagwan Shri Ganesh ji se maange har vardaan भगवान गणेश स्वयं रिद्घि-सिद्घि के दाता व शुभ-लाभ के प्रदाता हैं। वे भक्तों की बाधा, संकट, रोग-दोष तथा दरिद्रता को दूर करते हैं। गणपति की संकल्पपूर्वक साधना-आराधना करने से भक्त को चिंताओं से मुक्ति मिलती है। इच्छाएं पूर्ण होती है। मन स्थिर रहता है, अन्न ...

Read More »

भारत के 10 आविष्कारक ऋषि | Bharat ke 10 aavishkaarak rishi

dharmik

भारत के 10 आविष्कारक ऋषि  |  Bharat ke 10 aavishkaarak rishi भारत के 10 आविष्कारक ऋषिवेदों में ज्ञान-विज्ञान की बहुत सारी बातें भरी पड़ी हैं। आज का विज्ञान जो खोज रहा है वह पहले ही खोजा जा चुका है। बस फर्क इतना है कि आज का विज्ञान जो खोज रहा है उसे वह अपना आविष्कार बता रहा है और उस ...

Read More »

चमत्कारिक 84 सिद्धों को जानिए| Chamatkaarik 84 siddhiyo ko jaaniye

dharmik

चमत्कारिक 84 सिद्धों को जानिए| Chamatkaarik 84 siddhiyo ko jaaniye प्राचीन काल में तिब्बत हिन्दू धर्म का प्रमुख केंद्र था। इसे वेद-पुराणों में त्रिविष्टप कहा गया है। तिब्बत प्राचीन काल से ही योगियों और सिद्धों का घर माना जाता रहा है तथा अपने पर्वतीय सौंदर्य के लिए भी यह प्रसिद्ध है। संसार में सबसे अधिक ऊंचाई पर बसा हुआ प्रदेश ...

Read More »

जानिए, परम सिद्ध नौ नाथों को | Jaaniye Param Sidh 9 Naatho ko

ggggggg

जानिए, परम सिद्ध नौ नाथों को  |  Jaaniye Param Sidh 9 Naatho ko नाथ शब्द का अर्थ होता है स्वामी। कुछ लोग मानते हैं कि नाग शब्द ही बिगड़कर नाथ हो गया। भारत में नाथ योगियों की परंपरा बहुत ही प्राचीन रही है। नाथ समाज हिन्दू धर्म का एक अभिन्न अंग है। नौ नाथों की परंपरा से 84 नाथ हुए। ...

Read More »

जानिए, भारत के छ: महान दार्शनिकों को | Jaaniye Bharat ke 6 mahaan darshniko ko

fff

जानिए, भारत के छ: महान दार्शनिकों को  |  Jaaniye Bharat ke 6 mahaan darshniko ko विश्व और भारत का दर्शन और धर्म इन छ: ऋषियों के विचारों के आधार पर ही विकसित हुआ है। हालांकि वेदों में सभी तरह के धार्मिक विचार और दर्शन की चर्चा मिलती है, लेकिन हमारे इन छ: ऋषियों ने वेदों के ही इन दर्शन और ...

Read More »

खुश रहने वाले लोगों की 7 आदतें | 7 Habits of Happy People

dharmik

खुश  रहने  वाले  लोगों  की  7 आदतें  | 7 Habits of Happy People Friends, खुश  रहना  मनुष्य  का जन्मजात  स्वाभाव  होता  है . आखिर  एक  छोटा  बच्चा  अक्सर  खुश  क्यों  रहता  है ? क्यों  हम  कहते  हैं  कि  childhood days life के  best days होते  हैं ? क्योंकि  हम  पैदाईशी  HAPPY होते  हैं ;  पर  जैसे -जैसे  हम  बड़े  होते  ...

Read More »

सोलह कलाओं के अवतार हैं श्रीकृष्ण | Solah kalao ke Avtaar hai Bhagwan Shri Krishan

dharmik

सोलह कलाओं के अवतार हैं श्रीकृष्ण  |  Solah kalao ke Avtaar hai Bhagwan Shri Krishan भगवान श्रीकृष्ण को सोलह कलाओं का अवतार माना जाता है। सच में कृष्ण ने समाज के छोटे से छोटे व्यक्ति का सम्मान बढा़या, जो जिस भाव से सहायता की कामना लेकर कृष्ण के पास आया, उन्होंने उसी रूप में उसकी इच्छा पूरी की। अपने कार्यों ...

Read More »

गोपाल स्तुति | Gopal Stuti

dharmik

गोपाल स्तुति  |  Gopal Stuti नमो विश्वस्वरूपाय विश्वस्थित्यन्तहेतवे। विश्वेश्वराय विश्वाय गोविन्दाय नमो नमः॥1॥ नमो विज्ञानरूपाय परमानन्दरूपिणे। कृष्णाय गोपीनाथाय गोविन्दाय नमो नमः॥2॥ नमः कमलनेत्राय नमः कमलमालिने। नमः कमलनाभाय कमलापतये नमः॥3॥ बर्हापीडाभिरामाय रामायाकुण्ठमेधसे। रमामानसहंसाय गोविन्दाय नमो नमः॥4॥ कंसवशविनाशाय केशिचाणूरघातिने। कालिन्दीकूललीलाय लोलकुण्डलधारिणे॥5॥ वृषभध्वज-वन्द्याय पार्थसारथये नमः। वेणुवादनशीलाय गोपालायाहिमर्दिने॥6॥ बल्लवीवदनाम्भोजमालिने नृत्यशालिने। नमः प्रणतपालाय श्रीकृष्णाय नमो नमः॥7॥ नमः पापप्रणाशाय गोवर्धनधराय च। पूतनाजीवितान्ताय तृणावर्तासुहारिणे॥8॥ निष्कलाय विमोहाय शुद्धायाशुद्धवैरिणे। ...

Read More »

श्रीकृष्‍ण के एक हजार नाम | Bhagwan Shri Krishan ji ke ek hajar naam

dharmik

श्रीकृष्‍ण के एक हजार नाम  |  Bhagwan Shri Krishan ji ke ek hajar naam ॥ श्रीकृष्णसहस्रनामावली॥ श्रीकृष्ण के एक हजार नामों द्वारा पूर्व प्रज्वलित अग्निकुंड में आहुति प्रदान करवाने के लिए आचार्य तिल, चंदन का चूरा, शकर, शाकल्य, कमलगट्टा, मखाना, जौ, इन सभी वस्तुओं को गोघृत में पूर्णतः मिलाकर या मात्र खीर द्वारा कृष्णजी के प्रत्येक नाम मंत्रों से अग्नि ...

Read More »
google-site-verification: google31779ae1b770d891.html